Hindi

Gurutviy Tvaran Kise Kahate Hain: गुरुत्वीय त्वरण का सूत्र

गुरुत्वीय त्वरण किसे कहते हैं?

गुरुत्वाकर्षण बल के कारण पृथ्वी की ओर गिरने वाले पिंडों के वेग में प्रति सेकंड होने वाली वृद्धि को गुरुत्वीय त्वरण कहते हैं। इसे g से दर्शाया जाता है। पृथ्वी के सतह पर गुरुत्वीय त्वरण का मान लगभग 9.8 m/s² होता है। इसका अर्थ है कि यदि कोई पिंड पृथ्वी के सतह से मुक्त रूप से गिरता है, तो उसका वेग हर सेकंड 9.8 m/s की दर से बढ़ता जाएगा।

गुरुत्वीय त्वरण निम्नलिखित कारकों पर निर्भर करता है:

  • ग्रह का द्रव्यमान: ग्रह का द्रव्यमान जितना अधिक होगा, गुरुत्वीय त्वरण उतना ही अधिक होगा।
  • ग्रह की त्रिज्या: ग्रह की त्रिज्या जितनी अधिक होगी, गुरुत्वीय त्वरण उतना ही कम होगा।

गुरुत्वीय त्वरण का उपयोग विभिन्न प्रकार की समस्याओं को हल करने के लिए किया जाता है, जैसे कि:

  • किसी पिंड के गिरने का समय ज्ञात करना
  • किसी पिंड के प्रक्षेपण की ऊंचाई ज्ञात करना
  • किसी पिंड के वेग ज्ञात करना

गुरुत्वीय त्वरण का सूत्र इस प्रकार है:

g = F/m

जहाँ:

  • g गुरुत्वीय त्वरण है।
  • F गुरुत्वाकर्षण बल है।
  • m पिंड का द्रव्यमान है।

यह सूत्र न्यूटन के गुरुत्वाकर्षण के नियम पर आधारित है, जो बताता है कि दो पिंडों के बीच गुरुत्वाकर्षण बल उनके द्रव्यमानों के गुणनफल के समानुपाती होता है और उनके केंद्रों के बीच की दूरी के वर्ग के व्युत्क्रमानुपाती होता है।

गुरुत्वीय त्वरण का सूत्र विभिन्न प्रकार की समस्याओं को हल करने के लिए किया जाता है, जैसे कि:

  • किसी पिंड के गिरने का समय ज्ञात करना
  • किसी पिंड के प्रक्षेपण की ऊंचाई ज्ञात करना
  • किसी पिंड के वेग ज्ञात करना

गुरुत्वीय त्वरण एक महत्वपूर्ण भौतिकी का नियम है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार की स्थितियों में गुरुत्वाकर्षण बल का अध्ययन करने के लिए किया जाता है।

गुरुत्वीय त्वरण के लिए कुछ अन्य सूत्र भी हैं, जैसे कि:

  • g = GM/R²

जहाँ:

  • G गुरुत्वाकर्षण स्थिरांक है।
  • M ग्रह का द्रव्यमान है।
  • R ग्रह की त्रिज्या है।
  • g = 2π²/T²

जहाँ:

  • T ग्रह की परिक्रमा काल है।

यह सूत्र विभिन्न ग्रहों पर गुरुत्वीय त्वरण का मान ज्ञात करने के लिए उपयोगी है.

गुरुत्वीय त्वरण का मान विभिन्न ग्रहों पर भिन्न होता है:

  • पृथ्वी: 9.8 m/s²
  • चंद्रमा: 1.6 m/s²
  • मंगल: 3.7 m/s²
  • बृहस्पति: 23.1 m/s²
  • शनि: 9.0 m/s²

गुरुत्वीय त्वरण एक महत्वपूर्ण भौतिकी का नियम है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार की स्थितियों में गुरुत्वाकर्षण बल का अध्ययन करने और विभिन्न प्रकार की समस्याओं को हल करने के लिए किया जाता है.

Experts Ncert Solution

Experts of Ncert Solution give their best to serve better information.

Leave a Reply

Back to top button
WhatsApp API is now publicly available!