Hindi

500 Anek Shabdon ke Liye ek Shabd | अनेक शब्दों के लिए एक शब्द | One Word Substitution in Hindi

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द: वाक्य संक्षेपण

“वाक्य संक्षेपण” एक ऐसी कला है जिसमें किसी वाक्य को उसके मुख्य और महत्वपूर्ण भाव को समेट कर एक ही शब्द में परिभाषित किया जाता है। यह कला भाषा के सुंदरता और सरलता को बढ़ाती है, जिससे पाठक विचारों को स्पष्टता से समझ सकें। वाक्य संक्षेपण का उपयोग विभिन्न भाषाओं में किया जाता है और यह भाषा के विस्तारित ज्ञान को संक्षिप्त और सार्थक बनाने में मदद करता है।

हाथी को वश में रखने का विशेष लोहे का काँटाअंकुश
बही खाता लिखने वालाअंकेक्षक, लेखा-परीक्षक
बही खातों का जाँचअंकेक्षण, लेखा-परीक्षण
बही खातों की जाँच पड़ताल करने वाला अधिकारीअंकेक्षा
जो अंडे से जन्म लेता हैअंडज
किसी कथा के अंतर्गत आने वाली कोई दूसरी कथाअंतःकथा, अवांतर कथा
राजभवन के अंदर महिलाओं का निवासअंतःपुर, हरम
मन में आप से आप उत्पन्न होने वाली प्रेरणाअंतःप्रेरणा
धरती और आकाश के बीच का स्थानअंतरिक्ष
मन में होने वाला या स्वाभाविक ज्ञानअंतर्ज्ञान
किसी देश के अन्दर होने वाला या उससे संबंध रखने वालाअंतर्देशीय
जो किसी वस्तु के अंदर दृढ़तापूर्वक वर्तमान या स्थित हैअंतर्निविष्ट
मन (हृदय) की बात बात जानने वाला या मन में स्थितअंतर्यामी
जाति या कुटुंब में आपसी विवाहअंतर्विवाह
गुरु के साथ या समीप रहने वाला छात्रअंतेवासी
जो अंतिम (शूद्र) वर्ण में जन्मा होअंत्यज
किसी पद्य (कविता) के अंतिम अक्षर से नया पद्य आरंभ करने का खेलअंत्याक्षरी
मृत्यु के बाद किया जानेवाला अंतिम संस्कारअंत्येष्टि
देश या राष्ट्र के प्रति आँख बंद करके प्रेम और श्रद्धा रखनेवालाअंधदेशभक्त, अंधराष्ट्रवादी
दूसरे देशों से द्वेष रखते हुए अपने देश के प्रति पक्षपातपूर्ण प्रेमअंधदेशभक्ति
देश या राष्ट्र के प्रति पक्षपातपूर्ण प्रेमअंधराष्ट्रवाद
अटूट प्रेम और विश्वास करनेवालाअंधभक्त
बिना सोचे-समझे श्रद्धा और विश्वासअंधभक्ति
विचारहीन विश्वास या तर्क के बिना मान लिया गया विश्वासअंधविश्वास
बिना सोचे-समझे विश्वास करनेवालाअंधविश्वासी
ऐसा युग जिसका इतिहास ज्ञान होअंधकार युग
विवेकशून्य श्रद्धाअंधश्रद्धा
अपने ‘अंश या हिस्से’ के रूप में कुछ देना या किसी कार्य में ‘योग’ देनाअंशदान, योगदान
जिसमें काँटे या विघ्न-बाधा न होअकंटक
जो कहा न जा सकेअकथनीय
जो कहा न गया होअकथित
न कहने योग्यअकथ्य
न करने योग्यअकरणीय
जिसका कोई काट न होअकाट्य, अकाट
जिसके पास कुछ भी न होअकिंचन, दरिद्र
जिसमें कुछ करने की क्षमता न होअक्षम
क्षमा न करने योग्यअक्षम्य
जिसका क्षय न होअक्षय
एक-एक अक्षर तकअक्षरशः (हर्फ-ब-हर्फ)
चतुरंगिणी सेनाअक्षौहिणी
जिसका खंडन न किया जा सकेअखंडनीय
जिसके खंड या टुकड़े न किये गये होंअखंडित
जो खाने योग्य न होअखाद्य
जिसकी गणना न की जा सकेअगणित, अगणनीय, अगण्य
जिसके अंदर या पास न पहुँचा जा सकेअगम्य
किसी आदरणीय का स्वागत करनें के लिये चलकर कुछ आगे पहुँचनाअगवानी
जिसकी गहराई का पता न लग सकेअगाध
जो गाये जाने योग्य न होअगेय
जिसका ज्ञान इन्द्रियों द्वारा न होअगोचर
दूर तक फैलने वाली अत्यधिक नाशक आगअग्निकांड
गणना में जिसे आगे रखा जाये या गिनती में जिसे पहले रखा जायेअग्रगण्य
आगे चलनेवालाअग्रगामी
जिसका जन्म पहले (अग्र) हुआ होअग्रज
जो सबके आगे रहता होअग्रणी
किसी अनुष्ठान या पूजा में किसी का सर्वप्रथम सत्कार या पूजाअग्रपूजा
वह जो करने या होने वाली बात को पहले से ही सोचेअग्रसोची
भोजन का पहला अंश जो देवता या गाय के लिये निकाला गया होअग्राशन(अग्रासन)
सभा या सम्मेलन में प्रमुख व्यक्ति के लिये दिया गया अग्र (प्रथम) आसनअग्रासन
जो किसी देन या पारिश्रमिक मद्धे पहले से दे दिया जायेअग्रिम, पेशगी
ऐसी स्त्री से विवाह करनेवाला पुरुष जो पहले किसी और को ब्याही रही हो; वह कन्या जिसका विवाह उसकी बड़ी बहिन के पहले हो जायअग्रेदिधुषु
अघ (पाप) की कमाई खाने वाला या भोजन करने वालाअघभोजी
जो पहले न हो या जो पूर्व में घटित न हुआ होअघटित
जो हनने या घात करने योग्य न हो या निषिद्ध होअघ्न्य
जो वस्तु चलने वाली न होअचर, अचल
जो चिंतन करने योग्य न होअचिंत्य, अचिंतनीय(आचिंत्य)
कार्य न करने की इच्छा वालाअचिकीर्षु, आलसी
जिसमें चेतना न होअचेतन
जो स्पर्श (छुआ) न जा सकेअछूत
जिसे स्पर्श (छुआ) न किया गया होअछूता
जो छेदा न जा सकेअछेद्य
जिसका कभी जन्म न होअजन्मा
जिसका कोई शत्रु पैदा ही न हुआ होअजातशत्रु
पाप के बदले मिलने वाला दुःखअज़ाब
जिसे कोई जीत न सका होअजित
जो कुम्हलाया हुआ या मंद न होअजीत
जिसे जीता न जा सकेअजेय
जो कुछ न जानता होअज्ञ, अज्ञानी, अनभिज्ञ
जो कुछ न जानता होअज्ञात
जो जाना न जा सकेअज्ञेय
जो टूट न सकेअटूट
जो अपने स्थान से न डिगने (हटने) वालाअडिग
सूक्ष्म वस्तुओं का निरीक्षणअणुवीक्षण
मर्यादा का उल्लंघन या सीमा का अनुचित उल्लंघनअतिक्रम, अतिक्रमण
जिसके आने की तिथि (ज्ञात) न होअतिथि
जिसका दमन करना बहुत कठिन होअतिदुर्धर्ष
वृष्टि (वर्षा) की अधिकताअतिवृष्टि
कोई बात जो बढ़ा-चढ़ाकर कही गयी होअतिशयोक्ति, अत्युक्ति
सूर्योदय से पूर्व और सूर्योदय के बाद का समयअतिसंध्या
बीता हुआअतीत
जिसका अनुभव इन्द्रियों द्वारा न हो सकता होअतीन्द्रिय, इंद्रियातीत, इंद्रियागोचर (इंद्रियगोचर)
जिसकी तुलना न की जा सकेअतुलनीय
जो त्यागा (छोड़ा) न जा सकेअत्याज्य
जो थके नहीं या न थकने वालाअथक
जिसकी गहराई का थाह पता न लग सकेअथाह
जो दण्ड पाने योग्य न होअदंडनीय
जो दबाया न जा सकेअदम्य
जो देखने योग्य न होअदर्शनीय
चारपाई के पैताने की वह रस्सी, जिसे बुनावट को कसी रखने के लिये करधनी के छेदों में से ले जाकर सीरो में तानकर लपेटते हैंअदवान
जो दूर की बात न सोच सकेअदूरदर्शी
जो दिखायी न देता होअदृश्य, अलक्ष्य
जैसा या जो पहले कभी न देखा गया होअदृष्टपूर्व
जो दिये जाने योग्य न होअदेय
उर्द की सुखायी हुई बड़ियाअदौरी
वह शिशु जो अभी-अभी जन्मा हैअद्यःप्रसूत
वह माँ जिसने अभी-अभी शिशु को जन्म दी होअद्यःप्रसूता
जिसके समान कोई दूसरा न होअद्वितीय
आत्मा और परमात्मा में अभेदअद्वैत
आत्मा व परमात्मा का द्वैत (अलग-अलग) न मानने वाला सिद्धांतअद्वैतवाद
जिसने किसी से ऋण लिया होअधमर्ण, क़र्ज़दार
अधिकार में लाया या किया गया या जिसे अधिकार दिया गयाअधिकृत
पर्वत के ऊपर की, समतल भूमिअधित्यका
किसी देश का सर्वाधिकार सम्पन्न शासकअधिनायक
निरंकुश शासन तंत्र राज्यअधिनायक-तंत्र
एक व्यक्ति की शासन व्यवस्थाअधिनायकवाद
निरंकुश शासन में विश्वास रखने वालाअधिनायकवादी
विधानयिका द्वारा बनाया गया नियम अर्थात् आधिकारिक (अधि) नियमअधिनियम
शासन द्वारा प्राप्त अधिकारों का सूचक पत्रअधिपत्र, अधिकार-पत्र
मुद्रा का मूल्य बढ़ानाअधिमूल्यन
अतिरिक्त शुल्कअधिशुल्क
वह सूचना जो सरकार द्वारा निर्गत की जाये अर्थात् आधिकारिक (अधि) सूचनाअधिसूचना
अधिकारी जो अपने अधीन कार्यरत कर्मचारियों की निगरानी रखेअधीक्षक
जिसका मुख नीचे होअधोमुख
नीचे लिखा हुआअधोलिखित
कमर के नीचे पहना जाने वाला वस्त्रअधोवस्त्र, धोती, लुंगी
नीचे हस्ताक्षर करने वालाअधोहस्ताक्षरी
राज्य के प्रधान शासक द्वारा दिया या निकाला गया आधिकारिक आदेशअध्यादेश
वह जो विद्यार्थियों को पढ़ाने या अध्यापन का कार्य करता हैअध्यापक
वह स्त्री जिसके रहते पति दूसरा विवाह कर ले अर्थात् प्रथम विवाहिता स्त्री या ज्येष्ठा पत्नीअध्यूढ़ा
अध्ययन करने वालाअध्येता
जिसका कोई कहीं अंत न होता होअनंत
जो गिना न जा सकेअनगिनत
जिसका एक के बिना किसी दूसरे या अन्य से संबंध न होता हो, जिसका अन्य से संबंध न होअनन्य
जो दूसरे पर आश्रित न होअनन्याश्रित
जिसका कोई अन्य उपाय न होअनन्योपाय
जिसकी चाह या परवाह (अपेक्षा) न होअनपेक्षित
आग से झुलसा हुआअनलदग्ध
जो न जाना गया होअनवगत
पैर के अँगूठे का एक आभूषण या छल्ला, बैल की आँख का ढक्कन या पट्टी या अँधौटीअनवट
जो सदा से चला आ रहा होअनवरत
अशन (आहार, भोजन) का त्याग (अन्)अनशन
जो पहले कभी न सुना गयाअनश्रुत
जो बात सुनी न गयी होअनसुनी
दूसरों के दोषों को न देखने वालाअनसूय
पराये में गुण-दोष न देखना या नुक्ता-चीनी न करनाअनसूया
जिस पर आक्रमण न किया गया होअनाक्रांत
जो अभी तक न आया हो या न आया हुआअनागत
जिसका कोई नाथ (मालिक) न होअनाथ
जिसके आदि (प्रारम्भ) का पता न होअनादि
जिसका अनादर किया गया होअनादृत
आदि और अंत रहित या अनादि व अनंतअनाद्यांत
बिना आयास (परिश्रम) कियेअनायास
कनिष्ठा और मध्यमा के बीच की उँगलीअनामिका
जो बार-बार न होअनावर्त्तक
जो बार-बार न होता होअनावर्ती
जो ढँका न हो या जो खुला न होअनावृत
जो दोहराया न गया होअनावृत्त
न लौटनअनावृत्ति, मोक्ष
वृष्टि (वर्षा) का अभावअनावृष्टि
जिसका नाश न होअनाश्य, अविनश्वर
जो किसी वस्तु या विषय में आसक्त न होअनासक्त
किसी वस्तु या विषय पर आसक्त न होने की दशा या भावअनाशक्ति
जिसे बुलाया न गया होअनाहूत
जो निंदा के योग्य न होअनिंदनीय, अनिंद्य
जिसका को घर (निकेत/निकेतन) न होअनिकेत, अनिकेतन, बेघर
प्रत्येक पदार्थ को क्षणिक और नश्वर मानने वाला सिद्धांतअनित्यवाद
जिस पर कोई नियंत्रण न होअनियंत्रित
जो नियमानुकूल न होअनियमित
जो रुका न हो या जिसे रोका न गया होअनिरुद्ध
जिसका या जिसके संबंध में कोई निर्णय न हुआ होअनिर्णीत
जो वचन या वाणी द्वारा कहा न जा सकता होअनिर्वचनीय
जिसका निवारण न हो सकता होअनिवार्य
जो (स्त्री) घर से बाहर न निकलती होअनिष्कासिनी
जो पार न किया गया हो या जिसे छुटकारा न मिला होअनिस्तीर्ण
जो अनुकरण करने योग्य होअनुकरणीय
किसी के पीछे-पीछे चलने वालाअनुगामी, अनुयायी
जिस पर अनुग्रह किया गया होअनुगृहीत
पीछे चलने वाला (दास, भृत्य, नौकर)अनुचर
जिसका उच्चारण न किया जा सकेअनुच्चरित
जिसका जन्म पीछे (अनु) हुआ हो वह भाईअनुज
जिसका जन्म पीछे (अनु) हुआ हो वह बहनअनुजा
जिसका उत्तर न दिया गया होअनुत्तरित
जिसकी उपमा न की जा सकेअनुपम
आर्थिक सहायताअनुदान
जिसका अनुभव किया जा चुका हैअनुभूत
स्वीकृति या इजाज़तअनुमति
आनंद के अतिरेक से उन्मत्त या खुशी के मारे पागलअनुमत्त
अनुमान द्वारा प्राप्त ज्ञान, अनुमानअनुमिति
किसी मत या प्रस्ताव को समर्थन करने की क्रियाअनुमोदन
जो किसी वस्तु या व्यक्ति के प्रति आसक्त होअनुरक्त
समान रूप वालाअनुरूप
नत्थी किया गया कागज़अनुलग्नक
जिसका किसी प्रकार का उल्लंघन न किया जा सके या जो उल्लंघन करने योग्य न होअनुल्लंघनीय
एक भाषा में कही या लिखी हुई बात को दूसरी भाषा में कहने या लिखने की क्रियाअनुवाद
अग्रज के विवाह से पूर्व अनुज का विवाहअनुवेशन
परंपरा से प्राप्त ज्ञानअनुश्रुत
परंपरा से कही-सुनी हुई बात या उक्ति या श्रुति परंपरा से प्राप्त कथा और ज्ञानअनुश्रुति
प्रसंगवश एक बात से जुड़ी हुई दूसरी बातअनुषंग
अनिवार्य परिणाम के रूप में आने वालाअनुषंगी, अनुषंगिक
किसी शुभ कार्य को विधि-विधान (नियमपूर्वक) और श्रद्धापूर्वक आरंभ करनाअनुष्ठान
वह पत्र जो स्मरण दिलायेअनुस्मारक
किसी पुरुष से प्रेम करने वाली अविवाहिता या अविवाहित प्रेमिकाअनूढ़ा
बाज़ार न लगने का दिनअनैठ
अन्न की अधिष्ठात्री देवीअन्नपूर्णा
अँगीठी जिसमें सोना, चाँदी आदि धातुएँ तपाईं जाती हैंअन्ना, बोरसी
दूध पिलाकर पोषण करने वाली धाय माँअन्ना
जो नया न होअनूतन
किसी और स्थान परअन्यत्र
जिसका मन किसी दूसरी ओर लगा होअन्यमनस्क
जो किसी अन्य दूसरे पर आश्रित होअन्याश्रित
दूसरी माता के उदर से उत्पन्न या जन्म लेने वालाअन्योदर, अन्योदर्य
विवाह के पीछे वह धन जो स्त्री को उसके पिता या पति के घर से मिलेअन्वाधेय
वह सामान जो वधू अपने पिता के घर से लाई होअन्वायन
नीचे या पीछे (अप) की ओर खींचना (कर्ष)अपकर्ष (अवनति, उतार, ह्रास)
जिसका अपकार किया गया होअपकृत
जो पढ़ा न जा सकेअपठनीय
जो पढ़ा न गया होअपठित
जो भोजन रोगी के लिये निषिद्ध हो, प्रतिकूल आहार-विहारअपथ्य
बिगड़ा हुआ या विकृत शब्दअपभ्रंश
जो पराजित न किया जा सके या जो जीता न जा सकेअपराजेय, अजेय
दोपहर के बाद का समयअपराह्न
आवश्यकता से अधिक धन का ग्रहण न करनाअपरिग्रह
जिसका विवाह न हुआ होअपरिणीत, अविवाहित
जिसकी परिभाषा निश्चित न की गयी हो या जिसकी परिभाषा देना संभव न होअपरिभाषित
जो मापा न जा सकेअपरिमेय, अपरिमित
न बदलने वालाअपरिवर्तनीय
जिसका परिहार या त्याग न हो सकेअपरिहार्य
सामान्य या व्यापक नियम के विरुद्ध बातअपवाद
वह पुत्र जो माता-पिता द्वारा त्यक्त होने पर अन्य द्वारा पालित होअपविद्ध (पुत्र)
आवश्यकता या उचित मात्रा से अधिक खर्च करने वालाअपव्ययी
जिसके अंग दुरुस्त न होंअपांग, अपंग
जिसके उस पार की वस्तु को न देखा जा सकेअपारदर्शी, अपारदर्शक
जो पहले न हो रहा हो या न हुआ होअपूर्व
जो पान करने योग्य नहीं हैअपेय
जो अभी प्रकाश में न आया हो या जिसका प्रकाशन न हुआ होअप्रकाशित
जो बकवादी न हो या धृष्ट न होअप्रगल्भ
जिसमें प्रतिभा का अभाव होअप्रतिभ
जिसका निश्चय न हो सकेअप्रतीयमान्
जिसकी पहले से कोई आशा न होअप्रत्याशित
जो प्रमाण से सिद्ध न होअप्रमेय
जो प्रशंसा के योग्य न होअप्रशस्त
जो कोरा या अछूता हो, न पहना हुआ वस्त्र, न जोता हुआ खेतअप्रहत
जो प्राप्त न हुआ हो या न मिला हुआअप्राप्त
जो प्राप्त न हो सके या जो न मिलने वाला होअप्राप्य
जिसके लिये कोई बाधा या रोक-टोक न होअबाध
जिसे किसी बात का बोध न होअबोध
अभिगमन करने वाला या नज़दीक आने वालाअभिगामी
पुरुष जो अभिनय करता होअभिनेता
स्त्री जो अभिनय करती होअभिनेत्री
जो किसी अल्पवयस्क बच्चे या अनाथ बालक या स्त्री की देखरेख करता होअभिभावक
जिस पर मत दे दिया गया होअभिमत
किसी की ओर मुख किये हुएअभिमुख
जिस पर अभियोग लगाया गया होअभियुक्त
जो किसी पर अभियोग लगायेअभियोगी
धातु या प्रस्तर पर अंकित ऐतिहासिक महत्त्व का लेखअभिलेख
प्रिय से मिलने जाना, संकेत स्थल पर पहुँचनाअभिसार
प्रिय से मिलने के लिये (लुक-छिपकर) जाने वाली नायिकाअभिसारिका
किसी वस्तु को प्राप्त करने की प्रबल इच्छाअभीप्सा
जैसा या जो पहले (घटित) न हुआ होअभूतपूर्व
जो भेदा या तोड़ा ना जा सकेअभेद्य
वस्तु का भीतरी भागअभ्यंतर
कोई काम स्वभाववश करते रहने की क्रियाअभ्यास
जो कभी मरे नहींअमर, अमर्त्य
किसी के पास रखी हुई दूसरे की वस्तुअमानत
जो मानव के योग्य न होअमानुषिक, अमानवीय
मास के कृष्णपक्ष की पन्द्रहवीं तिथिअमावस्या
निष्फल या खाली न जाने वालाअमोघ
जिसकी याचना (माँग) न की गयी हो या बिन माँगाअयाचित
सूर्योदय के पूर्व का समयअरुणोदय, ऊषाकाल, भोर, तड़का
जिसका कोई अर्थ न होअर्थहीन
छह-छह महीने में एक बार होनेवालाअर्धवार्षिक
वाक्य को सम्यक् अर्थ देने के लिये उदाहरण, उपवाक्य आदि के बाद लगाया जाने वाला सूचक चिह्नअर्धविराम/अर्द्धविराम (;)
जो इस लोक में संभव न होअलौकिक
जिसका अस्तित्व अल्पकाल तक रहेअल्पकालिक
जिसका जीवन कम (अल्प) अवधि वाला (आयु) होअल्पजीवी, अल्पायु
किसी विशिष्ट वर्ग द्वारा निरंकुश शासन व्यवस्थाअल्पतंत्र
दूरगामी परिणाम न सोचने का भाव, संकुचित या निम्नस्तरीय विचारअल्पदर्शन
कोहरे, धुँध आदि के कारण अधिक दूर न देख पाने की स्थितिअल्पदृश्यता
संकुचित विचार वालाअल्पदृष्टि, अदूरदर्शी
जो कम जानता होअल्पज्ञ
जो अल्प (कम) बोलने वाला हैअल्पभाषी, मितभाषी
बहुत अल्प (कम) लोगों का मतअल्पमत
अल्प (कम) मेधा (बुद्धि) वालाअल्पमेध
अल्प भोजन करने वालाअल्पाहारी
अल्प (कम) उम्र काअल्पवयस्क, नाबालिग
जो अल्प (कम) विकसित (खिला) होअल्पविकसित (अधखिला)
वाक्य के पदों में या वाक्यांशों के मध्य संक्षिप्त ठहराव या विराम का सूचक चिह्नअल्पविराम (,)
अल्प (कम) वृष्टि (बरसात) होनाअल्पवृष्टि
कम जनसंख्या वाला पक्षअल्पसंख्यक
जाना हुआअवगत
जिसे मारना (वध) उचित न होअवध्य
मूल्य को घटाने की क्रिया, मुद्रा के मूल्य में कमी करना या होनाअवमूल्यन
जिसका वर्णन न हो सकता होअवर्ण्य, अवर्णनीय, वर्णनातीत
जो अवश्य होने वाला होअवश्यम्भावी
उपयुक्त अवसर का लाभ उठाने वालाअवसरवादी
जो वाचन (कहने) योग्य न होअवाच्य
नाश रहितअविनाश
जिसका नाश न होअविनाशी, अविनश्वर
जो अदला-बदला न जा सकेअविनिमेय
जो बाँटा (विभक्त) न गया होअविभक्त
जो बाँटा (विभक्त) न किया जा सकेअविभाज्य
जिसका विवाह न हुआ होअविवाहित
सोच-समझकर कार्य न करने वालाअविवेकी
जो विश्वास करने योग्य (लायक) न होअविश्वसनीय
जो भूल जाने योग्य न होअविस्मरणीय
जिसे भुलाया न जा सकेअविस्मृति
जिस स्त्री का भाई, पति और पुत्र न हो अर्थात् वह स्त्री जो भ्रातृहीना, विधवा और पुत्रहीना होअवीरा
बिना वेतन लिये दिये किया जाने वालाअवैतनिक
जो विधि के विरुद्ध होअवैध, अविधिक
जो व्यय (खर्च) न किया गया हो, वह शब्द जिसके रूप में वचन, लिंग आदि के कारण कोई विकार न होता होअव्यय
जो व्यवहार में न लाया गया होअव्यवहृत
जो न हो सके (असाध्य), जो क़ाबू में न किया जा सकेअशक्य
जिसे शोक न हो या जो शोकरहित हो या जो शोक करने योग्य न होअशोक
जो शोक करने योग्य न होअशोच्य
जो अश्व (घोड़े) का आरोही (सवार) हैअश्वारोही
चंद्रमास के किसी पक्की आठवीं तिथिअष्टमी
वह पुस्तक जिसमें आठ (अष्ट) अध्याय होंअष्टाध्यायी
जो नहीं हो सकताअसंभव
जो घटित न हो सकता हो, जिसके घटित होने की कोई आशा न हो सकती होअसंभाव्य
जिससे बात करना उचित न हो, जो कहे जाने योग्य न होअसंभाष्य
जिसके साथ बैठकर भोजन करना वर्जित होअसंभोज्य
जो संविधान सम्मत न हो या संविधान विरुद्ध होअसंवैधानिक, असांविधानिक
सभा के अयोग्यअसभ्य
जो बराबर न होअसम
जिसमें सामर्थ्य न होअसमर्थ
जो समान (बराबर) न होअसमान
जिस (रोग) का ठीक होना कठिन हो या जो साधने योग्य न होअसाध्य
जो समय पर न हो या जो समय के योग्य न होअसामयिक (बे-वक्त, बे-मौका)
जिसकी सीमा न होअसीम
जो सीमित न होअसीमित, सीमातीत
दूसरे गुण में दूष निकालनाअसूया
जो (स्त्री) सूर्य भी नहीं देख पातीअसूर्यंपश्या
फेंककर चलाया जाने वाला हथियारअस्त्र
अहंकारपूर्वक अपने को सबसे बढ़कर समझनाअहंमन्यता
जिसका अहिवात (सौभाग्य, पति) जीवित होअहिवाती
जिसमें किसी का कोई हेतु या कारण न होअहैतुक

‘आ’

वाक्यांशएक शब्द
आँतों में होने वाला / आँत संबंधीआंत्रिक
अकस्मात् या एकाएक घटित होने वालाआकस्मिक
आकाश में गमन करने वालाआकाशगामी
आकाश में उड़नेवालाआकाशचारी
अकाश को चूमने वालाआकाशचुंबी
बह बात जो आकाश से सुनाई पड़ने वाली समझी जाती हैआकाशवाणी, गगनगिरा
ऐसी वृति जिसका कुछ ठीक-ठिकाना न हो या अनिश्चित वृत्तिआकाशवृत्ति
जिस पर आक्रमण किया गया होआक्रान्त
आक्रमण करने वालाआक्रामक, आक्रमणकारी
अचानक आ जाने वालाआगंतुक
आया हुआआगत
वह नायिका जिसका पति परदेश (विदेश) से लौटा होआगतपतिका
वह नायिका जिसका पति प्रदेश से आने वाला होआगमिस्यत्पतिका
अग्नि से संबंधित या आग काआग्नेय
शुद्ध आचरण करने वाला या जो अपने आचरणों से पवित्र होआचारपूत
चिंतन करने योग्यआचिंत्य(अचिंत्य)
जीवन भर तकआजन्म, आजीवन, जीवनपर्यंत, जीवन-भर
जिसकी भुजाएँ जानु (घुटने) तक लम्बी होंआजानुबाहु
पूरे जीवन में या जीवन भरआजीवन
जिस पर किसी का आतंक छाया होआतंकित
अतिथि की सेवा करने वाला / अतिथि का सत्कार करने वालाआतिथेय
अत्याचार करने वालाआततायी
अतिथि सत्कारआतिथ्य
अपना ही पेट पालने वालाआत्मंभरि
अपने जीवन की कथा (आपबीती)आत्मकथा
अपने आप में खेद होनाआत्मग्लानि
जो अपनी हत्या कर लेता हैआत्मघाती, आत्मघातक, आत्महंता
अपने पर भरोसा करने वाला या जो अपने पैरों पर खड़ा होअंत्म-निर्भर, आत्मावलंबी
स्वयं को धोखा देने वालाआत्म-वंचक
अपने साथ ठगी या स्वयं के साथ धोखा करनाआत्म-वंचना, आत्म-प्रवंचना
किसी परिस्थिति विशेष के कारण अपने को बेचकर दासत्व ग्रहण करने वालाआत्मविक्रयी
अपने आप को मार डालनाआत्महत्या, आत्मघात
अपने आप को किसी के हाथ सौंपना या समर्पित करनाआत्मसमर्पण
जो स्वयं (आत्म) का मत (अभिमत) मानने वाला होआत्माभिमत (आत्म-अभिमत), स्वमतामनुयायी
दूसरों के (सुख के) लिए अपने सुखों का त्यागआत्मोत्सर्ग
आदर के योग्यआदरणीय
यह सिद्धान्त कि मनुष्य को सदा किन्हीं आदर्शों का पालन करते रहना चाहिएआदर्शवाद
किसी मत का सर्वप्रथम प्रवर्तन करने वालाआदि प्रवर्तक
किसी देश के वे निवासी जो बहुत पहले से वहाँ रहते आ रहे हैंआदिवासी
आदि से लेकर अंत तकआद्योपान्त, आद्यन्त
अधिकारपूर्वक कहा गया या किया गयाआधिकारिक
दैव अथवा प्रकृति द्वारा होने वाला (दुःख)आधिदैविक
भूतों अर्थात् जीवों द्वारा होने वाला (दुःख)आधिभौतिक
किसी वस्तु को आधुनिक रूप देने की क्रियाआधुनिकीकरण
आत्मा और ईवर से संबंध रखने वालाआध्यात्मिक
जो किसी वंश में बराबर चलता आया हैआनुवंशिक
आप से आप घटित होने वाला, अनावश्यक रूप से साथ होने वाला (सहवर्ती)आनुषंगिक
जिसे परंपरा से सुनते चले आये होंआनुश्राविक
विवशता में किया जाने वाला वर्जित कर्मआपद्धर्म
अपराधों से संबंधितआपराधिक
पैर से लेकर सिर तकआपादमस्तक
जिसकी कामनाएँ या इच्छाएँ पूरी हो गई होंआप्तकाम, कृतकाम, पूर्णकाम
बच्चों से लेकर बूढ़ों तक सबआबालवृद्ध
आभार मानने वालाआभारी
मरते दम तक या मरण तकआमरण
प्राणियों के पेट की वह थैली जिसमें भोजन पचता हैआमाशय
आरंभ सेआमूल
एड़ी से चोटी तकआमूलचूल
एक देश द्वारा दूसरे देशों से वस्तुओं का मँगाया जानाआयात
वह जो दूसरे देशों से वस्तुओं का आयात करता होआयातक
आयोजन करने वाला व्यक्तिआयोजक
धन से संबंध रखने वालाआर्थिक
ऋषियों का या ऋषियों का बनाया हुआआर्ष
जो किसी वस्तु या व्यक्ति के गुण-दोष की आलोचना करता होआलोचक
जो आलोचना के योग्य होआलोच्य
किसी अवधि से संबंध रखने वालाआवधिक
जन्म-मरण का चक्र, आना-जानाआवागमन
आशा से बहुत अधिक / आशा से अतीत (अधिक) / आशा से परेआशातीत
जो भविष्य के प्रति आशावान होआशावादी
वह कवि जो तत्काल कविता कर डालता हैआशुकवि
तुरंत (आशु) प्रसन्न (तोष) होने वालाआशुतोष (शिवजी)
वह क्लर्क जो आशुलिपि (शार्ट हैंड) जानता हैआशुलिपिक
आश्रय या सहारा या शरण देने वालाआश्रयदाता
जिसे विश्वास या दिलासा दिलाया गया होआश्वस्त
जिसे ईश्वर या वेद में विश्वास हैआस्तिक
कर्म का जीव की ओर आकर्षित होना (जैन सिद्धांत)आस्रव
कुछ समय के लिये धरोहर के रूप में रखा हुआ दासआहितक
बुलाया गयाआहूत

‘इ’ और ‘ई’

वाक्यांशएक शब्द
वह डिबिया या पात्र जिसमें सौभाग्यवती स्त्रियाँ इंगुर (ईंगुर) या हिंगुल रखती हैंइंगुरौटी, सिंधौरा
इंद्र को जीतने वालाइंद्रजित
प्रायः वर्षा ऋतु में आकाश में दिखायी देने वाले सात रंगों वाले धनुषइंद्रधनुष
इंद्रियों को वश में रखने वालाइंद्रियजित्
इंद्रियों पर किया जाने वाला वश या इंद्रियों और काम इच्छाओं को वश में रखनाइंद्रियनिग्रह, इंद्रियदमन
जो इंद्रियों की पहुँच से बाहर हों / इंद्रियों से परेइंद्रियातीत
अपनी इच्छा के अनुसार सब काम करने वालाइच्छाचारी
इच्छा के अनुसार रूप धारण करने वालाइच्छाधारी
जो इच्छा के अधीन हैइच्छाधीन
किसी चीज या बात की इच्छा रखने वालाइच्छुक
जिसका करना उचित हो, करने के लिये जो आवश्यक होइति कर्त्तव्य
किन्हीं घटनाओं का कालक्रम से किया गया (वृत्त) वर्णनइतिवृत्त
अपराधी जिसका ब्यौरा पुलिस में होइतिवृत्ती
यही सिद्ध करना थाइति सिद्धम्, इति कृतम्
किसी देश या समाज के सार्वजनिक क्षेत्र की घटनाओं, तथ्यों आदि का क्रमबद्ध विवरणइतिहास
इतिहास लेखकइतिहासकार
इतिहास का जानकारइतिहासज्ञ, इतिहासवेत्ता
प्रायः वर्षा ऋतु में आकाश में दिखायी देने वाला सात रंगों वाला धनुष (चाप)इंद्रधनुष, इंद्रचाप
इमारत के लिये या इमारत से संबंधितइमारती
चाहा हुआ या जिसकी आकांक्षा होइष्ट, वांछित, इच्छित
जिसकी ईप्सा या इच्छा की गयी होईप्सित
पूर्व और उत्तर के बीच का कोणईशान
बहुत कम छुआ हुआईषत्पृष्ट
दूसरों की उन्नति को न देख सकनाईर्ष्या, डाह, जलन
जो दूसरों की उन्नति देखकर जलता होईर्ष्यालु

‘उ’

वाक्यांशएक शब्द
कर्ज (ऋण) से मुक्त (रहित)उऋण
क्षत्रिय पिता और शूद्र माता की संतानउग्र
जिससे बढ़कर ऊँचा कोई न होउच्चतम
बहुत आगे बढ़ जाने की आकांक्षाउच्चाकांक्षा
खाने से बचा हुआ जूठा भोजनउच्छिष्ट
जो किसी नियम का पालन न करे या बंधन न मानने वालाउच्छृंखल
ऊपर आने वाला श्वासउच्छ्वास
नीचे की ओर आना या जानाउतरना
संकेत स्थल पर प्रिय के न मिलने से चिंता करने वाली या तर्क करने वाली या उत्कंठित (अधीर, बेचैन) नायिका, प्रिय मिलन के लिये बेचैन नायिकाउत्कंठिता
ऊपर की ओर उछाला या फेंका हुआउत्क्षिप्त
जिसने ऋण दिया होउत्तमर्ण, ऋणदाता
जिस पर किसी काम का उत्तरदायित्व होउत्तरदायी
किसी के हट जाने के बाद उसकी संपत्ति या पद को ग्रहण करने वाला व्यक्तिउत्तराधिकारी
सूर्य का मकर रेखा से उत्तर की ओर आभासी संचलन, छः माह की अवधि जब सूर्य की आभासी गति कर्क रेखा की ओर रहती हैउत्तरायण
परीक्षा में सफलउत्तीर्ण
वह वस्तु जिसका उत्पादन हुआ होउत्पाद
बिना दाँत वालाउदंत
सूर्य जिस पर्वत के पीछे निकलता हैउदयाचल
अपना पेट पालने के लिये दास बनने वालाउदरदास
जिसका चित् या हृदय या मन उदार होउदार-चेता, उदार-चरित, उदार-हृदय, उदारमना
हमेशा ऊँचा उठने की इच्छा रखने वालाउदीशा
जो धरती फोड़कर जन्मता होउद्भिज्ज (उद्भिद्)
उपकार करने वाला या भलाई करने वालाउपकारी, उपकारक
जिस पर उपकार किया गया होउपकृत
पर्वत के पास की भूमिउपत्यका, तराई
जिसे ऊपर कहा गया होउपर्युक्त, पूर्वकथित
निंदासूचक हँसी या खिल्ली उड़ानाउपहास
जो उपहास के योग्य होउपहासास्पद
जल और थल दोनों में रहने वालाउभयचर
छाती या हृदय या पेट के बल चलने वालाउरग (सर्प)
जो भूमि उपजाऊ होउर्वरा
उल्लेख किया हुआउल्लिखित
जिसका उल्लेख करना आवश्यक हो या उल्लेख करने योग्यउल्लेखनीय, उल्लेख्य
सूर्योदय से पहले का समयउषाकाल

‘ऊ’

वाक्यांशएक शब्द
ऊपर की ओर जाने वालाऊर्ध्वगामी
ऊँचे स्वर में उच्चारण किया हुआऊर्ध्वोच्चरित (ऊर्ध्वोच्चारित)
वह जो अपना वीर्यपात न होने दे या पूर्ण (अखंड) ब्रह्मचारीऊर्ध्वरेता
जिसका जन्म गर्मी (ऊष्णता) से होऊष्मज
जिस भूमि में कुछ उत्पन्न न होता होऊसर
अनिश्चय की स्थिति में मन में उत्पन्न होनेवाला तर्क-वितर्क, विचार-द्वंद्वऊहापोह
तर्क-वितर्क योग्यऊह्य, ऊहनीय

‘ऋ’

वाक्यांशएक शब्द
उत्तराधिकार में मिलने वाली जायदादऋक्थ, दायधन
वह जो विरासत का वारिस या उत्तराधिकारी होऋक्थभागी
पद्य में रचा हुआ वेद मंत्रऋचा
वह जिसका दायित्व किसी पर हो, कर्ज या उधार लिया गया धनऋण
वह ऋण जो दूसरा ऋण चुकाने के लिये लिया जाय या कर्ज चुकाने के लिये लिया जाने वाला कर्जऋणार्ण
वह जिसने उधार लिया होऋणी
सत्य को धारण एवं पालन करने वालाऋतंभर
सदा एकरस रहने वाली बुद्धिऋतंभरा
यज्ञ कराने वालाऋत्विज
ऐसी स्त्री जिसमें पुरुष का सा रंग ढंग हो या मर्दानी औरतऋषभी

‘ए’

वाक्यांशएक शब्द
जिसका संबंध किसी एक देश से होएकदेशीय
किसी एक पक्ष से संबंध रखने वालाएकपक्षीय
दिन में एक बार भोजन करने वालाएकभुक्त
एक बार में दिया हुआ, एक साथ या इकट्ठाएकमुश्त
जहाँ कोई दूसरा न हो या निर्जन स्थानएकांत
अन्य से संबंध न रखने वालाएकांतिक
एक आँख वालाएकाक्ष, काना
जिसका चित्त एकामित होएकाग्रचित्त
चांद्रमास के किसी पक्ष की ग्यारहवीं तिथिएकादशी
किसी वस्तु के क्रय-विक्रय का अकेला अधिकारएकाधिकार

‘ऐ’

वाक्यांशएक शब्द
इंद्रियों से संबंधितऐंद्रिय, ऐंद्रियक
इंद्र की पत्नीऐंद्री
एक ही अर्थ होने का भावऐकार्थ्य
जो अपनी इच्छा पर निर्भर होऐच्छिक
इतिहास से संबंधितऐतिहासिक
जो रूप बदलकर विकट और विलक्षण कार्य करता होऐयार
इंद्र का सफेद हाथीऐरावत
इस लोक से संबंध रखने वालाऐहलौकिक, ऐहिक

‘ओ’ और ‘औ’

वाक्यांशएक शब्द
ओज (बल, शक्ति व तेज) से परिपूर्णओजस्वी, ओजपूर्ण
जो आँख से दूर हो जायेओझल
झाड़-फूँक की क्रियाओझाई
पका हुआ चावलओदन
जो खाने योग्य होओदनीय
गर्भ धारण करने योग्य भैंसओसर
जिस किसी पद पर होओहदेदार, पदाधिकारी
उदारतापूर्वक दान देने वालाऔढरदानी
उदर (पेट) से संबंध रखने वालाऔदर, औदरिक
उदर संबंधीऔदर्य
जो सब कुछ उदारतापूर्वक देना जानता होऔदार्यदाता
उद्योग संबंधीऔद्योगिक
उपचार या ऊपरी दिखावे के रूप में होनेवालाऔपचारिक
जिसका संबंध उपनिवेश या उपनिवेशों से हैऔपनिवेशिक
उपनिषद् संबंधीऔपनिषदिक
जिसका संबंध उपन्यास से होऔपन्यासिक
अपनी विवाहिता पत्नी से उत्पन्न (पुत्र)औरस
मृत व्यक्ति से संबद्धऔर्ध्वदैहिक
ऊँट से प्राप्त होने वालाऔष्ट्रिक

‘क’ वर्ण

‘क’

सारे शरीर की हड्डियों का ढाँचाकंकाल
काँटों या बाधाओं से भरा हुआकंटकाकीर्ण, कंटकित
सिद्धार्थ गौतम के अश्व का नामकंथक
जो कहा गया हैकथित
पद, वय आदि के विचार से औरों की अपेक्षा छोटाकनिष्ठ
दस साल की कुमारीकन्या
जिसकी ग्रीवा (गर्दन) कपोत (कबूतर) की तरह सुंदर होकपोत-ग्रीवा
एक प्रकार का नमक जो समुद्र के पानी के निकाला जाता है, समुद्री नमककरकच
जो किये जाने या करने योग्य होकरणीय, कर्त्तव्य
पर दुःख से हृदय में उत्पन्न द्रवित भावकरुणा
कान का नीचे लटकता हुआ कोमल भागकर्णपाली
जो कर्त्तव्य से च्युत हो गया हैकर्त्तव्यच्युत
बहुत काम करते रहने वालाकर्मठ
कर्मों का परिणाम, पूर्वजन्म के किये हुए शुभ और अशुभ कर्मों का भला और बुरा फलकर्मविपाक, कर्मफल, कर्मभोग
काम बगाड़ने वाला या कर्म में व्यवधान डालने वालाकर्मोपघाती, कर्मनाशी
हाथी का शावक (बच्चा)कलभ, गजशावक
सिर्फ़ कलम चलाकर जीविका चलाने वालाकलमजीवी
अत्यधिक श्रेष्ठ और सुंदर रचनाकलम तोड़ना
नायिका जो पति से झगड़ा करके पछताती होकलहाँतरिता
झगड़ालू स्त्रीकलहिनी
कलह करने वालाकलही
जो कला जानता है या कला की रचना करता हैकलाविद्, कलाकार
चार युगों में से चौथा कलह का युगकलियुग
फूल जो अभी खिला न होकली
कल्पना से उत्पन्न हुआ या मन गढ़ंतकल्पना-प्रसूत
जो कल्पना से परे हो या जिसकी कल्पना न की जा सकेकल्पनातीत
स्त्री जो कविता रचती हैकवयित्री
वह पुरुष जो कविता या काव्य की रचना करता हैकवि
कष्ट सहने वालाकष्टसहिष्णु
जो कठिनाई से किया जा सकेकष्टसाध्य
जिसने कोई कसूर किया होकसूरवार
शंख जैसी ग्रीवा वालीकांबुग्रीवा
बाँस की बनी बड़ी तराज़ू जिसे कंधे पर रखकर दोनों ओर जलपात्र (गंगाजल) टाँगकर तीर्थयात्रा की जाती हैकाँवर
संयोगवश तथा सहसा हो जाने वालाकाकतालीय
एक संतान को जन्म देकर बांझ हो जाने वाली स्त्रीकाकबंध्या
वायुयान में चालक के बैठने की सीटकॉकपिट
भय, दुःख, प्यास से घबराया हुआकातर, अधीर
अविवाहिता से उत्पन्न संतानकानीन
तांत्रिक जो अपने हाथ में कपाल (खोपड़ी) लिये रहते हैंकापालिक
जिसे अनेक काम करने होंकामकाजी
जिससे काम निकल जायेकामचलाऊ
काम से जी चुराने वालाकामचोर, निकम्मा, आलसी
किसी वस्तु विशेष की सामान्य इच्छा या अभिलाषा या वांछाकामना
इच्छानुसार कोई भी आकार लेनाकामरूप
जहाँ पर अपराधी रखे जाते हैंकारागार, जेल, कारागृह, जेलखाना
कारागार से संबंध रखने वाला कार्य करने वालाकारागारिक
कार्य करने वाला व्यक्तिकार्यकर्त्ता
किन्हीं निश्चित कार्यों के निर्वाह के लिए बनायी गयी समितिकार्यसमिति
किसी निश्चय को कार्यरूप में बदलनाकार्यान्वय, कार्यान्वयन
जैसे-तैसे समय बिताना या दिन काटनाकालयापन
जो काल से परे होकालातीत
नियमविरुद्ध या निंदनीय कार्य करने वालों की सूचीकालीसूची
जिसे यह न जान पड़ता हो कि क्या करूँ और क्या न करूँकिंकर्तव्यविमूढ़
वह बात जो जन साधारण में चलती आ रही हैकिंवदंती
दस से पंद्रह वर्ष की बालिकाकिशोरी
जिसकी अब कीर्ति शेष रह गयी होकीर्तिशेष
लता-झाड़ियों से आच्छादित मंडपकुंज
किसी वस्तु को देखने अथवा सुनने की प्रबल इच्छाकुतूहल, कौतूहल
जिस लड़के का विवाह न हुआ होकुमार, कुँवारा, अविवाहित
जिस लड़की का विवाह न हुआ होकुमारी
दुराचारिणी स्त्रीकुलटा
अपने ही कुल का नाश करने वाला व्यक्तिकुलांगार
जो अच्छे या ऊँचे कुल में उत्पन्न हुआ होकुलीन
जिसकी बुद्धि कुशा की नोक (कुशा के अग्र) के समान तीखी होकुशाग्रबुद्धि
छिपी हुई चाल या गुप्त चाल, राजनीतिज्ञों व राजदूतों की कलाकूटनीति
व्यक्ति जिसका ज्ञान अपने ही स्थान तक सीमित होकूपमंडूक
किये हुए उपकार को भूल जाने वालाकृतघ्न, एहसान फ़रामोश
किये हुए उपकार को मानने वालाकृतज्ञ
जो अपना उद्देश्य सिद्ध होने पर संतुष्ट होकृतार्थ, कृत-कृत्य
जिसकी उत्पत्ति स्वभावगत न होकृत्रिम
कठिनाई से धन व्यय करने वालाकृपण (सूम, कंजूस)
अँधेरी रातों वाला पखवाराकृष्णपक्ष
जो केन्द्र से हटकर दूर जाता होकेन्द्रापसारी
जो केन्द्र की ओर उन्मुख होता होकेन्द्राभिमुख, केन्द्राभिसारी
विशुद्ध आत्मा या जो पाप-पुण्य, हर्ष-विषाद से मुक्त शुद्ध स्वभाव वाला होकेवलात्मा
सुन्दर और बड़े बालों वाली (स्त्री)केशिनी
केश (बाल) काटने (कर्तन) करने की दुकानकेशकर्तनालय, नाई की दुकान
केश के बालों को सजाने-सँवारने का कामकेशविन्यास, केशसज्जा
श्रीराम के धनुष का नामकोदंड
कुंती के पुत्रकौंतेय (युधिष्ठिर, भीम, अर्जुन और कर्ण)
भगवान विष्णु / श्रीकृष्ण की गदा का नामकौमोदकी
ठीक अपने क्रम से आया हुआक्रमागत
क्रम के अनुसारक्रमानुसार
जो क्रय किया गया हो या ख़रीदा हुआक्रीत
क्रय किया हुआ पुत्रक्रीतक
क्रय किया हुआ दासक्रीतदास
मन में अप्रिय भावों का सूचकक्लेश

‘क्ष’

वाक्यांशएक शब्द
क्षण भर में नष्ट होने (टूट-फूट जाने) वालाक्षणभंगुर, क्षणिक
अत्यधिक घायल और लहूलुहानक्षत-विक्षत
चातुर्वर्ण्य व्यवस्था में से रक्षा कर्म से सम्बद्ध वर्णक्षत्रिय
क्षत्रिय पुरुष की भार्याक्षत्राणी
क्षमा किये जाने योग्यक्षम्य
क्षमा याचना करने वालाक्षमाप्रार्थी
क्षमा करने वालाक्षमावान्, क्षमाशील
जहाँ पृथ्वी और आकाश मिलते हुए दिखायी पड़ेंक्षितिज
जिसका हाथ बहुत तेज चलता होक्षिप्रहस्त
क्षीण (दुर्बल) शरीर (काया) वालाक्षीणकाय
क्षुधा (भूख) से आतुरक्षुधातुर
नियोग प्रथा से उत्पन्न संतानक्षेत्रज
मूल रचना में दूसरों द्वारा जोड़े जाने वाला अंशक्षेपक

 ‘ख’

वाक्यांशएक शब्द
छोटी कथा पर आधारित काव्य, लघु काव्यखंडकाव्य
गिरे हुए मकान का अवशेषखंडहर, खंडगृह
जिसका कोई हिस्सा टूटकर अलग हो गया होखंडित
ऐसा ग्रहण जिससे सूर्य अथवा चंद्र का बिम्ब पूर्णरूप से ढँक जाये, सूर्य या चंद्रमा का पूर्ण ग्रहणखग्रास
जिसके हाथ में खड्ग (तलवार) होखड्गहस्त
नायक का प्रतिद्वंद्वीखलनायक
दुर्गुणों और प्रतिपक्षी नेतृत्व करने वाली नायिकाखलनायिका
जिसके सिर पर बाल न उगेखल्वाट
किसी के घर की होने वाली तलाशीखानातलाशी
जो खाने योग्य होखाद्य
एक विशेष प्रकार के शीशे का बना हुआ वह यंत्र जिससे छोटी वस्तु बहुत बड़ी दिखायी पड़ती हैखुर्दबीन, अणुवीक्षण यंत्र, सूक्ष्मदर्शक यंत्र
जो ख (आकाश) में चलता हैखेचर
ऐसा जो अन्दर से खाली होखोखला

‘ग’

वाक्यांशएक शब्द
गंगा और यमुना के जल के मेल के दो तरह के रंग का या गंगा और जमुना के मेल की तरहगंगा-जमुनी
जिसके सिर से बाल झड़ गये होंगंजा, खल्वाट
अवास्तविक वस्तु या बात, असंभव बातगगनकुसुम, गगनवाटिका आकाशकुसुम, आकाशपुष्प, शशशृंग
आकाश में उड़ने वाले पक्षी आदिगगनचर
गगन को चूमने वालागगनचुंबी
आकाश को भेदने वाला, प्रचंडगगनभेदी
गगन को स्पर्श करने वालागगनस्पर्शी
गज (हाथी) के समान मंद गतिवालीगजगामिनी
कपड़े में बँधा हुआ सामान, छोटा गट्ठरगठरी
गणित शास्त्र का जानकारगणितज्ञ
परंपरा से चला आता हुआगतानुगत
परंपरा के अनुसार चलने वाला, लकीर का फकीरगतानुगतिक, अंधानुयायी, परंपरावादी
निरंतर चलने या बढ़ने वालागतिशील, गत्यात्मक
जो किसी की गद्दी पर (आकर) बैठा होगद्दीनशीन
बहुत गप्पें हाँकने वालागपोड़िया
जो कठिनता से और देर में पचेगरिष्ठ
जिसके पेट में बच्चा होगर्भवती, गर्भिणी
गाय आदि पशुओं के गले के नीचे लटकने वाला भाग, झालर, लहरगलकंबल
गंगा से संबंधित या गंगा से उत्पन्नगांगेय
अर्जुन को अग्निदेव द्वारा दिया गया धनुषगांडीव
जिस पशु के पेट में बच्चा होगाभिन
गिरि (पर्वत) की पुत्री (जा)गिरिजा, गिरिसुता (पार्वती)
अंग्रेजी शासनकाल में शर्त या इकरारनामा (गिरमिट) के साथ किसी उपिनवेश में गया हुआ भारतीय मजदूरगिरमिटिया
गिरि (गोवर्धन पर्वत) को धारण करने वालेगिरिधर, गिरिधारी (श्रीकृष्ण)
ऐसा नाटक जिसमें पद्य की प्रधानता होगीतिरूपक, गीतिनाट्य
जो कुछ भी बोल न सकेगूँगा
अज्ञात सजातीय वर्ण से उत्पन्न पुत्र, जिसके पिता का पता न होगूढ़ज, गूढ़जात
घर में दासी से उत्पन्न दासगृहज, गृहजात, गृहेजात
गृह बसाकर रहने वालागृहस्थ, गृही
घर या देश के अन्दर की आपस के लोगों या दलों की लड़ाईगृहयुद्ध
नये बनवाये घर में पहले-पहल होने वाला प्रवेशगृहप्रवेश
जो कानून के विरुद्ध होगैरकानूनी
जिसका ज्ञान इन्द्रियों (गो) द्वारा हो सकेगोचर
जो इंद्रिय (गो) ज्ञान से परे होगोतीत
संध्या काल जब गायें चरकर लौटती हैं, रात और संध्या के बीच की वेलागोधूलि
जिसे दूसरे से छिपाकर रखना आवश्यक होगोपनीय
गायों को पालने और रखने का स्थानगोशाला
गाँव से संबंधितग्रामीण

‘घ’

वाक्यांशएक शब्द
बहुत-सी घटनाओं का सिलसिलाघटनावली
वह व्यक्ति जो दूसरों के घरों में फूट डालता होघरफोड़ा (घरफोरा)
घास खोदने (छीलने) और बेचनेवालाघसियारा
नदी के घाट पर बैठकर नहाने वालों से दान-दक्षिणा लेने वाला ब्राह्मण, घाट का मालिकघाटिया
घास-फूस या मिट्टी व खपड़ैल का बना कमरा जहाँ पर पशुओं को बाँधा जाता हैघारी
अस्पष्ट या न पढ़ी जा सकने वाली लिखावट, कम जगह में अधिक आदमियों या वस्तुओं का जमाव या भींड़-तंगीघिचपिच
मन के भावों को गुप्त रखने वालाघुन्ना, चुप्पा
कूड़े-करकट के ढेर (घूर) से अनाज के दाने चुनकर अपना निर्वाह करने वाला व्यक्तिघुरबिनिया
घुलने योग्य पदार्थघुलनशील
कूड़े-करकट का ढेर; वह गड्ढा जिसमें घर का कूड़ा-करकट, गोबर इत्यादि इकट्ठा किया जाता है और बाद में उसको खाद के रूप में उपयोग किया जाता हैघूर
घूस लेने वालाघूसखोर, भ्रष्ट, रिश्वतखोर
जिसे देखकर घृणा उत्पन्न होती होघृणित
घृणा करने वालाघृणी
घृणा किये जाने योग्यघृण्य, घृणास्पद
किसी के इर्द-गिर्द घेरा डालने की क्रियाघेराबंदी
जिसकी घोषणा की गयी होघोषित

‘च’ वर्ग

‘च’

वाक्यांशएक शब्द
चन्द्रमा की वह स्थिति जब उस पर पृथ्वी की छाया पड़ने से उसका कुछ या सारा भाग दिखायी नहीं देताचंद्रग्रहण
जिसके चूड़ा (बालों) में चंद्रमा हैचंद्रचूड़
जिसके सिर पर चन्द्रमा हैचंद्रशेखर (शिव)
रावण की तलवार का नामचंद्रहास
सेना का वह भाग जो सबसे पीछे रहता हैचंडावल
जो चक्र को धारण करता हैचक्रधर
जिसके पाणि (हाथ) में चक्र (सुदर्शन) हैचक्रपाणि (विष्णु, श्रीकृष्ण)
सार्वभौम शासक या समुद्रपर्यंत पृथ्वी का अधिपतिचक्रवर्ती, सम्राट
ब्याज का वह प्रकार जिसमें मूल के ब्याज पर भी ब्याज लगता हैचक्रवृद्धि ब्याज
आँखों को भाने वाला या अच्छा लगने वालाचक्षुष्य
चार भागों में से एक भागचतुर्थांश
चांद्रमास के किसी पक्ष की चौथी तिथिचतुर्थी, चौथ
चांद्रमास के किसी पक्ष की चौदहवीं तिथिचतुर्दशी, चौदस
जिस (देवता) की चार भुजाएँ हैंचतुर्भुज
जिनके चार-चार पैर होते हैंचतुष्पद, चौपाया
ऐसा काव्य जिसमें गद्य और पद्य का मिश्रण होचम्पूकाव्य
जो जीव चलने वाला होचर
कमल के समान (सुन्दर) चरणचरणकमल
वह जल जिसमें किसी देवी-देवतादि के पद-प्रक्षालन करके प्रसाद रूप में वितरित किया जाता हैचरणामृत, चरणोदक
जो चर्चा का विषय हो, जिसकी चर्चा की गयी होचर्चित
जो वस्तु एक ही स्थान पर न रहे अर्थात् जो चल रहा होचल
जो चलता हो या चलने वालाचलायमान, चरिष्णु, जंगम
चिड़ियों का चह-चह ध्वनि करना, खुशी में खिलखिलाकर बोलनाचहकना, चहचहाना
वह मास जो चन्द्रमा की गति के अनुसार गिना जाता हैचांद्रमास
जो आँखों (चक्षुओं) से संबंधित होचाक्षुष
खुशामद करने वाला व्यक्तिचाटुकार, चापलूस
हाथी के चिल्लाने की आवाजचिंघाड़
जिसका चिंतन या जिसकी चिंता करना उचित होचिंतनीय, चिंत्य
चिंता उत्पन्न करने वालाचिंताजनक
रोगियों की चिकित्सा करने का स्थानचिकित्सालय
जिसकी चिकित्सा की जा सकेचिकित्स्य
कार्य करने का इच्छुकचिकीर्षक
कार्य करने की इच्छाचिकीर्षा
चित्त को चुराने वालाचितचोर
फटा-पुराना कपड़ाचिथड़ा, गूदड़, चिरकुट
आकाश के समान निर्लिप्तचिदाकाश (ब्रह्म)
आनंद और चैतन्य स्वरूपचिदात्मा, चिदानंद (ब्रह्म)
चैतन्य स्वरूप की माया या ब्रह्म की मायाचिद्विलास
पूर्ण तथा विशुद्ध ज्ञानमयचिन्मय, परमात्मा
चिरकाल तक जीवित रहने वालाचिरंजीवी
जो सदा से चला आ रहा हो, बहुत दिनों से चला आता रहने वालाचिरंतन, पुरातन
चिरकाल तक बना रहने वालाचिरस्थायी
जिस पर चिह्न लगाया गया होचिह्नित
करुण स्वर में चिल्लानाचीत्कार
चीन से आने वाला रेशमी वस्त्रचीनांशुक
योगियों, भिक्षुओं आदि द्वारा पहनने का वस्त्र, चादर आदिचीवर
चूहों फँसाने का पिंजड़ाचूहादान, चूहेदानी
महाराणाप्रताप के घोड़े का नामचेतक
किसी को चेताने के लिये कही जाने वाली बातचेतावनी
हर चौथे दिन आने वाला ज्वरचौथिया
विवाह के चौथे दिन वर-वधू के कंगन खोलने की रस्म, विवाह के चौथे दिन कन्या के घर से कपड़े, मिठाइयाँ आदि भेजे जाने की रस्मचौथी
वर्षा ऋतु के चार मास (महीने), वर्षा ऋतु में गाया जाने वाला गीतचौमास, चौमासा
चारों ओर से आकर मिलने वाले रास्तों का केंद्र बिन्दुचौराहा, चौमुहानी, चौरस्ता
किसी स्थान के चारों ओर की सीमाचौहद्दी
अग्निकुल के अंतर्गत क्षत्रिय (राजपूत) वंश की शाखाचौहान (चाह्मान)
गिरा हुआ, पतितच्युत
भूने हुए धान का कूटा हुआ चबेनाच्यूड़ा, चिवड़ा

 ‘छ’

वाक्यांशएक शब्द
कर्मचारी आदि को छाँटकर निकाल देने का कामछँटनी
बनावटी रूपछद्मवेश
बनावटी वेष धारण करने वालाछद्मी, छद्मवेशी, छली
छः महीने का समयछमाही
स्कूल या कॉलेज से सम्बद्ध भवन जहाँ पर विद्यार्थी रहते हैंछात्रालय, छात्रावास
अचानक किया जाने वाला आक्रमणछापा
अकस्मात कहीं भी आकर छापा मारने वाला या आकस्मिक आक्रमण करने वालाछापामार
वह स्थान जहाँ छपाई (मुद्रण) का कार्य होता हैछापाखाना, छापाघर, मुद्रणालय, प्रेस
अचानक आक्रमण करने वालाछापेमार
सेना के ठहरने का स्थानछावनी
किसी काम या व्यक्ति में छिद्रों, त्रुटियों व दोषों को ढूँढ़ने का कामछिद्रान्वेषण
दूसरों के छिद्र (गलतियाँ) खोजने वालाछिद्रान्वेषी
किसी को दोषारोपण करके छेड़नाछींटाकशी

‘ज’

वाक्यांशएक शब्द
जिसमें व्यावहारिक बुद्धि न हो (महामूर्ख), जिसमें जीवन न हो (निर्जीव), जिसमें चेतना शक्ति न हो (अचेतन)जड़
पेट के अंदर का शारीरिक ताप जो भोजन पचाने का काम करता है या पाचक शक्ति या पेट की अग्निजठराग्नि, जठरानल
जाति से निष्कासित (च्युत) या बहिष्कृत, जिसे बिरादरी से निकाल दिया गया हो, जिसके साथ व्यवहार न किया जाता होजातिज्युत, जातिबहिष्कृत
अपनी जाति को दूसरी जाति से श्रेष्ठ मानने का सिद्धांतजातिवाद
अपनी जाति को दूसरी जाति से श्रेष्ठ मानने वाला अर्थात् जातिवाद मानने वालाजातिवादी
ऐसी शासन व्यवस्था (तंत्र) जो जनता द्वारा चुनी और जनता के लिये होजनतंत्र, लोकतंत्र, प्रजातंत्र
जन्म से सौ वर्ष का समयजन्मशती
जो जन्म से ही अंधा हैजन्मांध
जन्मदिन पर मनाया जाने वाला उत्सवजन्मोत्सव
जो वृद्ध होने के कारण जर्जर हो गया होजराजीर्ण
जल में पैदा होने वालाजलज
जल लेने के बदले में दिया जाने वाला टैक्सजलकर
जल में विचरने वाले जीवजलचर
वह यान जो जल में चलता हैजलयान
बेटी का पतिजामाता, दामाद
परस्त्री से प्रेम करने वाला (उपपति, यार)जार
उपपति से उत्पन्न संतान या अवैध संतानजारज
जाने की इच्छाजिगामिषा
जाने का इच्छुकजिगामिषु
किसी को जीतने की चाह (इच्छा)जिगीषा
किसी पर विजय पाने की इच्छा रखने वालाजिगीषु
खाने की इच्छाजिघत्सा
भोजन करने की इच्छुक या इच्छा रखने वालाजिघत्सु, भूखा
वध की इच्छुकजिघांसक, जिघांसु
वध की इच्छाजिघांसा
पकड़ने की इच्छाजिघृक्षा
पकड़ने की इच्छा वालाजिघृक्षु
अधिक समय तक जीने की इच्छाजिजीविषा
अधिक समय तक जीते रहने को इच्छुकजिजीविषु
जानकारी प्रदान करने या जताने की इच्छा या लालसाजिज्ञापयिषा
जानने या जानकारी देने की इच्छा वालाजिज्ञापयिषु
कुछ जानने या ज्ञान प्राप्त करने की चाहजिज्ञासा
जानने की इच्छा रखने वालाजिज्ञासु
जिसने इन्द्रियों पर विजय पा ली होजितेन्द्रिय
विजय प्राप्त करने वालाजिष्णु (विष्णु, अर्जुन)
त्याग की इच्छाजिहासा
त्याग की इच्छा रखने वालाजिहासु
हरण करने की इच्छाजिहीर्षा
हरण करने की कामना करने वालाजिहीर्षु
अश्व (घोड़े) की पीठ पर रखने की गद्दीजीन
जीर्ण (टूटे-फूटे) भवनों का उद्धारजीर्णोद्धार
सारे जीवन में किसी के कार्यों आदि का विवरणजीवन-चरित्र
खेत जोतने का कामजुताई
जूतों से होने वाली लड़ाईजुतिऔवल
जूतों से प्रहार करना, खरी-खोटी सुनाकर अपमानित एवं लज्जित करनाजुतिआना
पति का बड़ा भाई, बैसाख और आषाढ़ के बीच का महीनाजेठ (ज्येष्ठ)

‘ज्ञ’

वाक्यांशएक शब्द
जो जानने योग्य होज्ञातव्य
जो जानता होज्ञाता
जिसे ज्ञान प्राप्त करने की प्यास होज्ञानपिपासु
विषयों का ज्ञान कराने वाली इंद्रियाँज्ञानेंद्रिय
जताने या बताने का कार्य, सरकारी पत्र का एक प्रकारज्ञापन
जिसे जानना आवश्यक होज्ञेय

‘झ’

वाक्यांशएक शब्द
अपनी झक (धुन, सनक) में मस्त रहने वालाझक्की
झगड़ा करने वालाझगड़ालू
जिसके लम्बे-लम्बे बिखरे बाल होझबरा
काँटेदार झाड़ियों समूह, व्यर्थ के पेड़-पौधों का समूहझाड़-झंखाड़
पीसे जाने वाले अनाज की एक बार में चक्की में डालने के लिये निर्धारित मात्राझींका
झूठ बोलने वालाझूठा
स्त्रियों की आपस में झोंटा (बाल) पकड़कर होने वाली लड़ाईझोंटा-झोंटी
झोपड़ियों का मुहल्लाझोपड़-पट्टी

‘ट’ वर्ग

‘ट’

वाक्यांशएक शब्द
टाइप करने की कलाटंकण
सिक्के आदि ढालने का कारखानाटकसाल
धनुष के प्रत्यंचा से उत्पन्न ध्वनिटंकार, धनुष्टंकार
छोटे क़द का घोड़ा, बोझा लादने वाला छोटा घोड़ाटट्टू
लगातार घंटा बजने से होने वाला टन-टन शब्दटनाटन
दो पहियों वाली ऊँची घोड़ागाड़ीटमटम
चारों ओर जल से घिरा हुआ भू-भागटापू
टिप्पणी लेखन की विधिटिप्पण
संक्षिप्त रूप में लिखा गया लेख, किसी बात पर कुछ कहनाटिप्पणी
किसी ग्रन्थ या रचना की टीका करने वालाटीकाकार
किराये पर चलने वाली मोटरगाड़ीटैक्सी

‘ठ’

वाक्यांशएक शब्द
ऐसी बात जो केवल ठाकुर (स्वामी या मालिक) को प्रसन्न करने के लिये कही जायठकुरसुहाती
जो ठेला जाता हो, निठल्ला या बेकारठिलुआ
विश्वास करने योग्यठिहार, विश्वसनीय
वृक्ष का बचा हुआ धड़ठूँठ
बिना डाली-पत्ती का या शाखा रहितठूँठा
जो बिल्कुल मूल रूप में होठेठ
ठेलकर चलायी जाने वाली गाड़ीठेला

‘ड’ और ‘ढ’

वाक्यांशएक शब्द
डींग मारने वाला, मूर्ख व्यक्तिडपोर संख
घर-घर जाकर लोगों की डाक पहुँचाने वाला कर्मचारीडाकिया
झूठा दिखावाढकोसला, पाखंड, आडंबर
वह जो पाखंड करता होढपोरशंखी, पाखंडी

‘त’ वर्ग

‘त’

किसानों को सरकार या जमींदार द्वारा दी गयी ऋण के रूप में आर्थिक सहायतातकावी
विवाद या गुटबाजी से अलग रहने वालातटस्थ
उस (तत्) से अधिकततोधिक
उसी (तत्) समय (काल)तत्काल, तत्समय, फ़ौरन
उस (तत्) समय (काल) का, उन दिनों कातत्कालीन, तत्सामयिक
उसी (तत्) समय (क्षण)तत्क्षण, तुरंत
उसी (तत्) क्षेत्र से संबधिततत्क्षेत्रीय
अध्यात्म के तत्त्वों को जानने वालातत्त्वज्ञ, तत्त्वज्ञानी, तत्त्वविद्
जो काम करने को तैयार (मुस्तैद, उद्यत) हो, मनोयोग से लगा हुआतत्पर
उस (तत्) के प्रति आसक्त (परायण)तत्परायण
उस (तत्) के बाद (पश्चात्)तत्पश्चात्, अनंतर
ऐसा ही होतथास्तु, एवमस्तु
केवल इसके वास्तेतदर्थ
इस विशिष्ट कार्य के लिये बनी समितितदर्थ-समिति
वह जो बराबर तपस्या करता हैतपस्वी
जो तर्क के आधार पर ठीक सिद्ध होतर्कसंगत
तर्क के द्वारा जो माना गया हो या तर्क के द्वारा जो सम्मत हैतर्कसम्मत
ऐसा तर्क जो केवल ऊपर से ही ठीक-ठाक न हो अपितु वास्तव में सही होतर्काभास
चोरी-छिपे और चुंगी शुल्कादि दिये बिना माल लाकर बेचने वालातस्कर
तर्क का, तर्कशास्त्र का ज्ञातातार्किक
एक व्यक्ति द्वारा चलायी जाने वाली शासन प्रणालीतानाशाही, स्वेच्छाचारिता, अधिनायकत्व
बाण (तीर) रखने का चोंगा जो कंधे पर टाँगा जाता हैतूणीर, निषंग, तरकश, भाथा
चांद्रमास के किसी पक्ष (कृष्ण व शुक्ल) की तीसरी तिथितृतीया
सरदी-गरमी, दुःख आदि सहन करने की शक्तितितिक्षा
सरदी-गरमी, दुःख आदि सहन करने वाला (सहनशील)तितिक्षु
तैरने या तर जाने की इच्छातितीर्षा
तैर कर पार होने की इच्छा रखने वालातितीर्षु
वह स्थान जहाँ तोपें और उससे सम्बद्ध बारूद आदि रखा रहता हैतोपखाना
जिसको त्याग दिया गया होत्यक्त
कोई काम या पद छोड़ देने के लिये लिखा गया पत्रत्यागपत्र
जिसे त्याग देना उचित होत्याज्य
छुटकारा (त्राण) दिलाने वालात्राता
जिसे तीनों कालों (भूत, वर्तमान, भविष्य) में होने वाली घटनाएँ दिखायी देती होंत्रिकालदर्शी, त्रिकालज्ञ
भौंहों के मध्य के ऊपर का स्थान जहाँ त्रिकुट चक्र की स्थिति मानी जाती हैत्रिकुटी
तीन शृंगों वाला पर्वत, वह पर्वत जिसपर लंका बसी थीत्रिकूट
प्रकृत के तीन गुण (सत्व, रज व तमस्)त्रिगुण
तीन प्रकार के ताप या कष्ट (दैहिक, दैविक व भौतिक)त्रिताप
आयुर्वेद के अनुसार तीन दोष (वात, पित्त व कफ)त्रिदोष
आयुर्वेद में वर्णित तीन फलों के मिश्रण से बनी औषधित्रिफला
रात्रि का तृतीय प्रहरत्रियामा
स्वर्ग, मर्त्य एवं पाताल ये तीन लोकत्रिलोक, त्रिभुवन
बौद्ध धर्म के तीन अंग (बुद्ध, संघ व धर्म); जैन धर्म के तीन अंग ( सम्यक् दर्शन, सम्यक् ज्ञान सम्यक् आचरण)त्रिरत्न
तीन प्रकार की वायु (शीतल, मंद व सुगंधित)त्रिविध वायु, त्रिविध बयार
वह स्थान जहाँ तीन नदियाँ आकर मिलती हों; तीन नदियों की संयुक्त धारा; गंगा, यमुना व गुप्त सरस्वती का प्रयागराज में संगमत्रिवेणी
धरती और आकाश के मध्य का स्थान, प्रसिद्ध सूर्यवंशी राजा जो यज्ञ करके सशरीर स्वर्ग पहुँचना चाहते थे परन्तु इंद्र के विरोध के कारण पृथ्वी वा स्वर्ग के बीच लटक गयेत्रिशंकु
हर तीसरे महीने होने वालात्रैमासिक

‘थ’

वाक्यांशएक शब्द
जमी हुई गाढ़ी चीज की मोटी तह, जमा हुआ द्रवथक्का
बँधी हुई लंबाई का कपड़े का बड़ा टुकड़ा, गहनों या आभूषणों आदि की संख्या, कुलदेवता का पूजा स्थलथान
पुलिस की चौकीथाना
पुलिस थाने का प्रधान अधिकारीथानेदार, थानाध्यक्ष
समय पर काम आने के लिये रखी हुई वस्तु, वह वस्तु जो किसी के पास इस विश्वास पर छोड़ दी गयी हो कि वह माँगने पर दे देगाथाती, धरोहर
तबले, ढोलक आदि पर हथेली द्वारा उसे बजाने के दौरान किया गया आघातथाप
हाथ की छाप या चिह्नथापा

‘द’

वाक्यांशएक शब्द
जिसे दण्ड दिया जा सकता है या दण्डित किया जाना चाहिएदंडनीय
राज्य द्वारा लगाये गये आर्थिक दंड को न चुका पाने के कारण बनाये गये दासदंडप्रणीत दास
अपराध और उन पर दण्ड देने के नियम निर्धारित करने वाला ग्रन्थदंडसंहिता
दाँत से काटने वाला (दंश मारने वाला) या डंक मारने वालादंशक
जिसे किसी ने डसा हो या दंश मारा होदंशित
संकीर्ण या पुराने विचारों वाला व्यक्तिदकियानूस
जिसका मुख दक्षिण की ओर हो, दक्षिण की ओर उन्मुखदक्षिणाभिमुख
विषुवत रेखा की ओर से मकर रेखा की ओर सूर्य का आभासी गमन, वह छः माह का समय जब सूर्य विषुवत् रेखा से दक्षिण दिशा में स्थित रहता हैदक्षिणायण
छः माह का वह समय जब सूर्य का दक्षिण की ओर आभासी गमन होता होदक्षिणायान
दाहिनी ओर घूमने वाला, घड़ी के सुइयों की दिशा में घूमनादक्षिणावर्त
उत्तराधिकारी बनाने हेतु विधिवत गोद लिया हुआ पुत्रदत्तक, दत्त्रिम, मुतबन्ना
किसी काम को चित्त लगाकर करने वालादत्तचित्त
पति-पत्नी का जोड़दम्पति (दंपती)(दम्पत्ति)
दर्शन करने योग्य या देखने योग्यदर्शनीय
वह व्यक्ति जो क्रेता और विक्रेता के बीच में पड़कर सौदा पक्का कराता हैदलाल
जिसका दलन किया गया हो, दबाया हुआ, कुचला हुआदलित
चांद्रमास के किसी पक्ष की दशवीं तिथिदशमी
जिसके दस मुख (आनन) होंदशानन (रावण)
जहाँ औषधि दान स्वरूप मिलती हैदातव्य-औषधालय
जिसकी जीविका दान से चलती होदानवृत्ति
(कृष्ण) जिसके पेट में माँ ने रस्सी बाँध दी थीदामोदर
पैतृक संपत्ति के रूप में दासदायागत दास
दाव (जंगल) का अनल (आग / अग्नि)दावानल, दावाग्नि
देखने की इच्छादिदृक्षा
देने की इच्छादित्सा
देने का इच्छुकदित्सु
देखने की इच्छादिदृक्षा
देखने को इच्छुकदिदृक्षु
नित्य किये जाने वाले कार्यदिनचर्या
जिस पर दिनांक (तारीख का अंक) लगाया गया होदिनांकित
दिन पर दिनदिनानुदिन
दिन में कम दिखायी देने वाला रोगदिनौंधी, दिवांधता
दिन के समय अपने प्रिय से मिलने जाने वाली नायिकादिवाभिसारिका
वह व्यक्ति जो अपने ऋणों को चुकता करने में असमर्थ हो गया होदिवालिया
दिव (स्वर्ग, आकाश, दिन) से संबंधितदिव्य (स्वर्गीय, आकाशीय)
दिव्य (ज्ञान) नेत्रदिव्यचक्षु, प्रज्ञाचक्षु
अलौकिक या भविष्य संबंधी घटनाओं को देखने की शक्तिदिव्यदृष्टि
ज्ञान नेत्र से देखने वाला या अलौकिक घटनाओं को देखने वालादिव्यद्रष्टा
दीपों की क़तारदीपावली
दीप जलाकर मनाया जाने वाला उत्सवदीपोत्सव
जिसकी बाहें लम्बी (दीर्घ) होंदीर्घबाहु
दुःख देने वालादुःखद
जिसका समाधान या उपचार करना कठिन हैदुःसाध्य
अनुचिक कार्य करने के लिये साहस या अनुचित साहसदुःसाहस (दुस्साहस)
जिसका चित्त किसी एक बात पर स्थिर न होदुचित्तता
जिसमें दो रंग होंदुरंगा
दुष्ट उद्देश्य से की जाने वाली मंत्रणा या साजिशदुरभिसंधि
बुरा (दुर्) आग्रह या अनुचित बात के लिये आग्रहदुराग्रह
जिसे प्रसन्न/आराधित करना कठिन हैदुराराध्य
जिसमें जाना या जिसे समझना कठिन होदुर्गम
जिस पर विजय पाना कठिन होदुर्जेय
जिसका दमन करना कठिन होदुर्दम, दुर्दमनीय, दुर्दम्य
जिस पर सम्यक् विचार न किया गया हो, जिसका विवाद या मुक़दमा उचित ढंग से न हुआ होदुर्दृष्ट
जिसे आसानी से बस में न किया जा सके, जिसे परास्त करना कठिन होदुर्द्धर्ष
जिसका रोकना या निवारण करना कठिन होदुर्निवार, दुर्निवार्य
जिसकी समझ या जिसका बोध कठिनाई से हो सकेदुर्बोध
वह स्त्री जो अपने पति के स्नेह के वंचित हो, वह स्त्री जिसे स्वामी न चाहे, विरक्तादुर्भगा
ऐसा अकाल कि भिक्षा देना / लेना भी कठिन होदुर्भिक्ष
जिसे भेदना या तोड़ना कठिन हो या जो कठिनाई (दुर्) से भेदा या तोड़ा जा सकेदुर्भेद्य
जिसे लाँघना बहुत कठिन होदुर्लंघ्य
जो कठिनाई से मिलता हैदुर्लभ, दुष्प्राप्य
जिसे ढोना या साथ ले जाना कठिन हो (बहुत भारी), जिसे बर्दाश्त न किया जा सके (दुस्सह, असह्य)दुर्वह
बुरा बर्ताव या अनुचित व्यवहारदुर्व्यवहार
बुरी लत, बुरी आदत, बुरे स्वभावदुर्व्यसन
बुरी लत, बुरी आदत, बुरे स्वभाव वालादुर्व्यसनी, दुर्व्यसनवाला
बुरे हृदय वालादुर्हृद (दुर्हृत्)
बुरे आचरण / चरित्र वालादुश्चरित्र
जिसे करना बहुत कठिन होदुष्कर
जिसका नाप करना कठिन होदुष्परिमेय
जिसे देखना कठिन होदुष्प्रेक्ष्य
वह व्यक्ति जो दूर तक की बातों को पहले ही सोच लेता है या वह जिसकी दृष्टि दूर तक जायदूरदर्शी, दूरंदेश
वह जो अपनी प्रतिज्ञा पर दृढ़ रहेदृढ़प्रतिज्ञ
देखने, सोचने-समझने का पहलूदृष्टिकोण
आँख (दृष्टि) की बीमारी, देखने में त्रुटि होनादृष्टिदोष
जो देने योग्य हैदेय
देवता का दिया हुआ, अर्जुन के प्रसिद्ध शंख का नामदेवदत्त
पति के छोटे भाई की पत्नीदेवरानी
कार्तिक शुक्ल की एकादशी जिस दिन भगवान विष्णु शेष शैय्या उठते हैंदेवोत्थान (दिठवन)
अपने देश के साथ विश्वासघात करने वालादेशद्रोही
देशानुरागी व्यक्तिदेशभक्त
दिन का या प्रतिदिन होने वालादैनिक
दुहिता (पुत्री) का पुत्रदौहित्र (नाती)
दिखायी पड़ने वाला (दृष्टिगोचर) या दर्शन करने योग्य (दर्शनीय) या निरीक्षण किये जाने योग्यद्रष्टव्य
द्रुत गति से जाने वालाद्रुतगामी
राजा द्रुपद की पुत्रीद्रौपदी
चांद्रमास के किसी पक्ष की बारहवीं तिथिद्वादशी
जो द्वार का पालन (रक्षा) करता हैद्वारपाल
दो बार जन्म लेने वालाद्विज, द्विजन्मा, द्विजाती
चांद्रमास के किसी पक्ष (शुक्ल या कृष्ण) की द्वितीय तिथिद्वितीया
जिसके दो पद (पैर) हैंद्विपद
दो भिन्न भाषा-भाषियों के मध्य मध्यस्थता करने वालाद्विभाषिया
दो भाषाओं का जानकारद्विभाषी
वधू का पति के साथ दूसरी बार ससुराल आना (गौना), दूसरी बार आना (पुनरागमन)द्विरागमन
दो बार कथनद्विरुक्ति
दूसरी बार विवाह करने वाली स्त्रीद्विरूढ़ा
दो भिन्न जाति के पशु से उत्पन्न पशु, दोगलाद्विरेता
द्वितीय वर, पति का छोटा भाईद्विवर (देवर)

‘ध’

वाक्यांशएक शब्द
धन देने वाला (व्यक्ति या देवता)धनद, कुबेर
धन देने वालीधनदा
धनुष धारण करने वालाधनुर्धर, धनुर्धारी, धन्वी
वह जो पृथ्वी (धरणि, धरणी) को धारण करता होधरणिधर, धरणीधर (शेषनाग)
वह वस्तु या द्रव्य जो किसी के पास इस विश्वास पर रखी जाती है कि स्वामी द्वारा माँगे जाने पर वापस कर दिया जायेगा (अमानत), वह वस्तु या गुण जो निधि के रूप में हमें पूर्वजों से मिली है (थाती)धरोहर
जिसकी धर्म में निष्ठा होधर्मनिष्ठ
परमार्थ हेतु बनवाया गया भवन जहाँ यात्री रुकते हैंधर्मशाला
धर्मानुसार आचरण करने वालाधर्माचारी
जिसकी आत्मा धार्मिक सिद्धान्तों से ओतप्रोत हो या धर्मानुकूल अनुसार आचरण करने वालाधर्मात्मा
धारण करने वालाधारक
जिस पर धारियाँ बनी होंधारीदार
धीर और लालित्य प्रधान नायकधीरललित
भावनाओं पर पूर्ण नियंत्रण रखने वाला नायकधीरोदात्त
उग्र एवं सदैव आत्मप्रशंसा करने वाला नायकधीरोद्धत
मछली पकड़कर, नाव चलाकर जीविका चलाने वाली जातिधीवर (धीमर), मल्लाह, कैवर्त (केवट)
हवा में मिली हुई या भाप के कारण होने वाला अँधेरा या दृष्टिगोचर का अभावधुंध
ध्यान या विचार करने वालाध्याता
युद्ध में बंदी बनाये गये दासध्वजाहृत

‘न’

वाक्यांशएक शब्द
जिसकी नाक कट गयी होनकटा
नख से शिख तक के सब अंगनखशिख
बालुकामय प्रदेश (मरुस्थल) के बीच पाया जाने वाला हरित क्षेत्रनख़लिस्तान, मरूद्यान
जो गणना के योग्य न हो, अत्यंत तुच्छनगण्य
वह गाँव या शहर जहाँ नाना का घर हो या माँ के पिता का घरननिहाल
आकाश (नभ) में विचरण करने वालानभचर
नमस्कार करने योग्य, जो झुक सके या जो झुकाया जा सकेनमनीय
हाल ही में उत्पन्न हुआ (बालक) या अभी-अभी (नव) जन्मा हुआनवजात
चांद्रमास के किसी पक्ष की नौवीं तिथिनवमी
नया आया हुआनवागत
कहीं से नया-नया आया हुआनवागन्तुक
हाल की ब्याही स्त्रीनवोढ़ा
नया उदित होने वालानवोदित
जो नष्ट होने वाला होनश्वर
नष्ट होने के क़रीब पहुँचा हुआनष्टप्राय
नगर में रहने वाला या नगर से संबंधितनागरिक, नागर
लड़की की लड़कीनातिन
लड़की का लड़कानाती
लिया हुआ धनादि जल्दी न वापस करने वालानादिहंद
जल्दी वापस न करनानादिहंदी
नरक से संबंधित या नरक में रहने वालानारकीय
जो धर्म और ईश्वर में विश्वास न रखता हो या जिसे वेद में विश्वास न होनास्तिक
निंदा किये जाने योग्य या निंदा योग्यनिंदनीय, निंदास्पद, निंद्य
जिसे किसी प्रकार की शंका या डर न होनिःशंक
जिस पर किसी प्रकार शुल्क न लगता होनिःशुल्क
जिसमें शब्द न हो रहा होनिःशब्द
नाक से बाहर निकलने वाली साँसनिःश्वास
बिना साथ कानिःसंग (निस्संग)
जिसकी कोई संतान न होनिःसंतान
जिसे किसी बात की स्पृहा (आकांक्षा) न होनिःस्पृह
जिसमें स्वार्थ साधन की भावना न होनिःस्वार्थ
जो किसी से न डरेनिडर
जिस पुरुष के पुत्र न होनिपूत, निपूता, निपुत्र
जिस स्त्री के पुत्र न होनिपूती
जो नीचे (निम्न) लिखा गया हैनिम्नलिखित
जिस पर नियंत्रण किया गया होनियंत्रित
जिस पर किसी प्रकार का अंकुश/नियंत्रण न होनिरंकुश
निम्न कोटि कानिकृष्ट
जिसे अक्षर ज्ञान न होनिरक्षर
जिसका कोई अर्थ न हो (अर्थरहित)निरर्थक
अहंकार (अभिमान/दर्प) से रहितनिरहंकार
जिसका कोई आकार न होनिराकार
बिना आधार कानिराधार
जिसमें कोई संकट या आपत्ति न हो (आपत्ति रहित)निरापद
(भोजन) जिसमें आमिष (मांस) का कोई अंकुश न होनिरामिष
जिसे आशा न रह गयी होनिराश
आशा का अभाव, निराश होने की अवस्थानिराशा
वह जो समझ बैठा है कि संसार में किसी वस्तु के बेहतर होने की कोई आशा नहीं हैनिराशावादी
जिसका कोई आश्रय न होनिराश्रय
इंद्रियों से रहित, कमजोर इंद्रिय वालानिरिंद्रिय
इच्छा एवं तृष्णा से रहित (विरक्त), जो किसी बात के लिये प्रयत्न या चेष्टा न करे (निष्क्रिय, चेष्टारहित), नम्र एवं शात (बेचारा)निरीह
उत्तर न देने वाला, उत्तर न देने योग्य, जिसका उत्तर न दिया गया होनिरुत्तर
जिसकी उपमा न दी जा सकेनिरुपम
जिसका उपाय न हो सके, साधन से हीननिरुपाय
जिसमें उत्साह न हो या उत्साह न होना (उत्साहरहित)निरुत्साह
जिसमें (सत, रज, तम) गुण न होंनिर्गुण
जहाँ जन न हो या आबादी न होनिर्जन
निर्णय करने वाला, विवाद आदि का निर्णय करने वाला व्यक्तिनिर्णायक
जिसके मन में दया का अभाव होनिर्दय, निर्दयी
जो किसी विषय का निर्देशन करता है या निर्देश देने वालानिर्देशक
बिना पलक झपकाये (गिराये) या निमिष गिरायेनिर्निमेष, अपलक, एकटक, अनिमेष
जिसके पास बल या शक्ति का अभाव हो या जिसमें शक्ति (बल) न होनिर्बल, अशक्त, दुर्बल
जिसे कोई भय नहीं हैनिर्भय, निर्भीक, अभय
जिसे भ्रांति न हो, जिसमें भ्रम न होनिर्भ्रांत
जिसके हृदय में ममता नहीं हैनिर्मम
जिसकी जड़ या आधार का पता न हो या जिसका मूल नहीं हैनिर्मूल
एक देश से दूसरे देश में माल भेजनानिर्यात
जिसके मुँह से बात न निकले, जो चुप हो, जिसे वाणी व्यक्त न कर सकेनिर्वाक्
निर्वाचन में अपना मत देने वालानिर्वाचक
जो विहित प्रक्रिया द्वारा चुना गया होनिर्वाचन
बलपूर्वक निकाल देना, देश निकाले का दंडनिर्वासन
देश निकाला हुआनिर्वासित
निर्वासित किये जाने योग्यनिर्वास्य
बिना विवाद कानिर्विवाद
जो निज का न होनिर्वैयक्तिक
वैर भाव आदि से रहित, वैर का अभावनिर्वैर
आवश्यक रक़म लेकर वांछित वस्तुएँ जुटा देने या काम पूरा करने का लिखित वादानिविदा
निशा (रात्रि) में विचरण करने वालानिशाचर
अर्ध रात्रि का समयनिशीथ
जो चिंता से रहित होनिश्चिंत
जिसका निषेध किया गया हैनिषिद्ध
जिस पर कोई कलंक न लगा होनिष्कलंक
कामना एवं वासना से रहित (निर्लिप्त), बिना कामना के किया जाने वालानिष्काम
जिसने पाप न किया होनिष्पाप
जिसमें तेज न हो या जिसका तेज निकल गया हैनिस्तेज
जिसकी सहायता करने वाला कोई न होनिस्सहाय
नीति का ज्ञान रखने वालानीतिज्ञ
जो रोग से मुक्त हो (स्वस्थ), दोष एवं विकाररहितनीरोग
शुभ अवसर पर नौकर-चाकर एवं अन्य आश्रितों को धन व उपहार देने की प्रथानेग
स्वयं नौकर होते हुए भी स्वयं को अधीनस्थ नौकरों का स्वामी समझने वाला, सरकारी विभाग का वह अधिकारी जिसके हाथ में पूरी सत्ता हो, वह सरकारी अधिकारी अधिकारी जो स्व विवेक का उपयोग न करते हुए नियमों के आधार पर कार्य करेनौकरशाह
नौकरशाह अधिकारियों द्वारा पूर्णतया संचालित प्रशासन, अधिकारी-तंत्र, अफ़सर-शाही, दफ्तर-शाहीनौकरशाही
उच्च न्यायालय का न्यायाधीशन्यायमूर्ति

‘प’ वर्ग

प’

अहल्या, मंदोदरी, तारा, कुंती और द्रौपदी नामक पाँच कन्याएँपंचकन्या
सृष्टि, स्थिति, ध्वंस, विधान और अनुग्रह ये पाँच ईश्वरीय कर्मपंचकृत्य
गाय से प्राप्त होने वाले पाँच (दुग्ध, दही, घृत, गोमल व गोमूत्र) द्रव्यपंचगव्य
पंचजन नामक राक्षस की अस्थि से निर्मित श्रीकृष्ण का प्रसिद्ध शंखपंचजन (पाँचजन्य)
पाँच नदियों ( सतलुज, व्यास, रावी, चिनाब और झेलम) का समूहपंचनद
पाँच तत्त्व (आकाश, पृथ्वी, जल, वायु व अग्नि) जिससे मिलकर भौतिक शरीर बनी हैपंचभूत (पंचतत्त्व)
दूध, दही, शर्करा, मधु व घृत के मिश्रण से मिलाकर बनने वाला प्रसादपंचामृत
पीपल, वट, बेल, हरड़ और अशोक नामक पाँच वृक्षों का समूहपंचवटी
गाँव की वह सभा जिसमें पंच लोग झगड़ों का निपटारा करते हैंपंचायत
चांद्रमास के किसी पक्ष की पाँचवीं तिथिपंचमी
शरीर का एक हिस्से को नाकाम करने वाला योगपक्षाघात, लकवा, फ़ालिज
जो पढ़ने में रोचक लगे या पढ़ने योग्यपठनीय, पाठ्य
गिरा हुआपतित
पति परायण स्त्री या अपने पति के प्रति अनुराग रखने वाली या पति धर्म ही जिसका व्रत हो या पति के प्रति अनन्य अनुराग एवं भक्ति रखने वालीपतिव्रता
अगुआ बनकर मार्ग दिखाने वाला, पथ का प्रदर्शन करने वालापथ-प्रदर्शक
रोगी को दिया जाने वाला हल्का भोजन या जो स्वास्थ्य के लिये उपयोगी होपथ्य
जो अपने पद से हटा दिया गया हो, बर्खास्त किया हुआपदच्युत
पद का लोभपद-लिप्सा
पद का लोभीपद-लोलुप
पाँवों से कुचला हुआ या रौंदा हुआ अर्थात् पद से आक्रांतपदाक्रांत
जो पदों अर्थात् काव्य के रूप में होपद्य
पानी में डूबकर चलने वाली नावपनडुब्बी
परंपरा से चला आता हुआ, परंपरा से प्राप्त होने वालापरंपरागत, पारंपरिक
परपुरुष से प्रेम करने वालीपरकीया
दूसरों की कमी निकालना, दूसरों की दोष देखनापरछिद्रान्वेषण
दूसरे में बुराई खोजने वालापरछिद्रान्वेषी
जो सुख-दुःख से परे हो, वह संन्यासी जो ज्ञान की परम अवस्था तक पहुँच गया होपरमहंस
फूलों की रजपराग, पुष्परज
जो दूसरे या दूसरों के अधीन होपराधीन, परतंत्र
दूसरे का दिया गया अन्न, पराया भोजनपरान्न
दूसरों द्वारा दिये गये अन्न या भोजन पर जीवित रहने वाला या दूसरे का दिया अन्न खाकर जीवनयापन करनेवालापरान्नजीवी, परान्नभोजी
जो पर (दूसरों का) अर्थी (भला चाहने वाला) हैपरार्थी
जो किसी दूसरे के आश्रय में रहता होपराश्रयी, पराश्रित
जिसका या जिसके साथ परिचय हो चुका होपरिचित
(स्त्री) जिसे मालिक ने छोड़ दिया होपरित्यक्ता
पूर्ण रूप से पका या पचा हुआपरिपक्व
भलीभाँति पोषित या पक्का किया हुआपरिपुष्ट
वह मनुष्य जो दूसरे के धन का अनधिकार उपभोग करपरिभोक्ता
जिसका परिमार्जन हुआ हो या शुद्ध किया जा चुका होपरिमार्जित
जो तोला मापा जा सकेपरिमेय
प्रकाश पिंडों (सूर्य) के चारों तरफ कुछ दूर तक दिखायी पड़ने वाला मंडलाकार प्रकाश; महान् पुरुषों, देवी देवताओं के चित्रों में उनके मुख मंडल के चारों तरफ दिखलाया जाने वाला प्रकाश का घेरापरिवेश, प्रभामंडल, आभामंडल
भोजन परोसनापरिवेष
भोजन परोसने का कामपरिवेषण
भोजन परोसने वालापरिवेष्टक
चारों ओर से घिरा हुआपरिवेष्टित
भिक्षा माँगकर जीवन निर्वाह करने का नियमपरिव्रज्या
परिव्रज्या व्रत ग्रहण करके भिक्षा माँगकर जीवन निर्वाह करने वाला संन्यासी (यति)परिव्राज, परिव्राजक
पुस्तकों के अंत में दी जाने वाली पूरक बातेंपरिशिष्ट
जिसकी परीक्षा ली जा चुकी होपरीक्षित
परीक्षा करने वाला या परीक्षा लेने वालापरीक्षक
परीक्षा लेने की क्रिया या जाँच-परख करने की क्रियापरीक्षण
जो निगाह से परे होपरोक्ष, अप्रत्यक्ष
दूसरों का उपकार (भलाई) करनापरोपकार, परमार्थ
दूसरों का उपकार करने वालापरोपकारी, परमार्थी
दूसरे के सहारे जीवित रहने वालापरोपजीवी, परजीवी
दूसरों को उपदेश देने वालापरोपदेशक
वह पशु जिसपर सवारी की जाये, वह पशु जिसपर बोझ लादकर यात्रा की जायेपरोहन (परोहण)
चमड़े का बड़ा थैला जिसमें किसान कुओं से पानी निकालकर खेत सींचते हैं, पानी निकालने वाली दौरीपरोहा, मोट, चरसा
पर्ण (पत्ते) की बनी हुई कुटीपर्णकुटी
पर्दे (परदे) के में रहने वाली स्त्रीपर्दानशीं, पर्दानशीन
रहस्य प्रकट होना या भेद प्रकट करनापरदाफ़ाश, पर्दाफ़ाश
जो देश विदेश का भ्रमण करता होपर्यटक
पहाड़ या पर्वत पर चढ़ने वालापर्वतारोही
एक सिद्धांत जिसके अनुसार जीवन की सच्चाई व कठिनाई से भागने की प्रवृत्ति होपलायनवाद
जीवन की कठिनाइयों से भागने की प्रवृत्त वालापलायनवादी
पांचाल प्रदेश की राजकुमारीपांचाली
पुस्तक या लेखक की हस्तलिखित प्रतिपाण्डुलिपि
पखवारे में एक बार होने वालापाक्षिक
पचाने की क्रिया करने वालापाचक
वह जो पढ़ता होपाठक
जो पढ़ाया जाने योग्य होपाठ्य
पढ़ने-लिखने की आवश्यक सामग्रीपाठ्य-सामग्री
किसी स्त्री को पत्नी रूप में ग्रहण करने के साथ उसका हाथ पकड़नापाणिग्रहण
राह या मार्ग का भोजनपाथेय
पैर से पीने वालापादप
जिसके चित्त में पाप करने की भावना रहती हैपापचेता
जिसने किसी विषय को पार कर लिया होपारंगत, दक्ष
जिसमें इस पार से उस पार की वस्तुएँ दिखायी देती होंपारदर्शक, पारदर्शी
परलोक से संबंधितपारलौकिक
ब्राह्मण पिता और शूद्र माता से उत्पन्न पुत्रपारशव
धार्मिक ग्रंथ का किया जाने वाला पाठपारायण
घर-गृहस्थी के सामानपारिणाह्य
इच्छा पूर्ति से होने वाली प्रसन्नता या संतुष्टि का भावपरितोष, संतोष
किसी प्रतियोगिता में विजेता को दिया जाने वाला उपहार, पुरस्कार या इनामपारितोषिक
किये हुए परिश्रम के बदले में मिलने वाला धनपारिश्रमिक, मज़दूरी, उजरत
पृथा (कुंती) के पुत्रपार्थ (अर्जुन, भीम, युधिष्ठिर)
पृथ्वी से संबंधित या मिट्टी का बना हुआपार्थिव
पर्वत (हिमालय) की कन्या (पुत्री)पार्वती
जो पकड़कर पाला गया होपालतू
पशुओं का सा या पशुओं के आचरण जैसापाशविक
गर्भ से जन्म लेने वालापिंडज, जरायुज
पिता का पितापितामह, दादा
पिता की माँपितामही, दादी
पिता का भाईपितिया, चाचा, काका
पिता के भाई की पत्नीपितियानी, चाची, काकी
पिता को जन्म देने वालीपितृप्रसू (दादी, पितामही)
पिता होने का भावपितृत्व
अपने पिता की हर तरह सेवा करने वालापितृभक्त
पिता का छोटा भाईपितृव्य (चाचा)
पिता तुल्य आदरणीय व्यक्तिपितृष्य
पिता की बहनपितृष्वसा, बुआ, फूफी
जो पिता की हत्या कर चुका होपितृहंता
भगवान शिव के धनुष का नामपिनाक
जिसे पानी या किसी और वस्तु को पीने की प्यास होपिपासु
एक बार कही बात को दुहराते रहनापिष्टपेषण
अन्न पीसकर जीविकोपार्जन करने वाला व्यक्तिपिसनहारा
अन्न पीसकर जीविकोपार्जन करने वाली महिलापिसनहारी
कमलवत् नेत्रों वालापुंडरीकाक्ष
पर पुरुषों से गुप्त संबंध रखनेवालीपुंश्चली, स्वैरिणी
किसी बड़े आदमी के निधन की वार्षिक तिथिपुण्यतिथि
अपने पुत्र (बेटे) की वधू (पत्नी)पुत्रवधू
फिर से कहा हुआ, कही हुई बात को पुनः कहने का दोषपुनरुक्त
कही गयी बात को फिर से फिर से कहना, दुबारा कही गयी बातपुनरुक्ति
फिर से जीवित होनापुनरुज्जीवन
जिसने पुनः जीवन प्राप्त हुआ होपुनरुज्जीवित
फिर से उठना, पुनः उन्नति करनापुनरुत्थान
महापाप के प्रायश्चित स्वरूप किया गया दुबारा जनेऊ-संस्कारपुनरुपनयन
पुनः होने वाला जन्मपुनर्जन्म
फिर से जागनापुनर्जागरण
किसी टूटी-फूटी वस्तु का फिर से निर्माणपुनर्निर्माण
पति की मृत्यु के बाद पुनः विवाह करने वाली स्त्रीपुनर्भू
पति, पुत्रादि से सुखी स्त्री, नारी, सुगृहणीपुरंधी
उत्तराधिकार में प्राप्त सम्पत्तिपुश्तैनी सम्पत्ति
जिसका पूजन करना, उचित और कर्त्तव्य होपूजनीय, पूज्य
जिसकी कामना पूरी हो गयी होपूर्णकाम
वाक्य की समाप्ति का सूचक चिह्नपूर्णविराम (।)
किसी प्रश्नपत्र के लिये निर्धारित कुल अंकपूर्णांक
चांद्रमास के शुक्ल पक्ष (अजोर पाख) की पंद्रहवीं तिथिपूर्णिमा
दिन का पहला भाग सबेरे से दोपहर तक या दिन के पहले दो प्रहरपूर्वाह्न
(वस्तु) जो पीने योग्य होपेय
पिता से प्राप्त की हुई सम्पत्ति, पुरखों का, पुश्तैनीपैतृक
जो अपने पैरों से चल रहा होपैदल
वह छोटा डंडा जिससे हल जोतते समय बैलों को हाँका जाता हैपैना
पुत्र का पुत्रपौत्र
पुत्र की पुत्रीपौत्री
पुनर्भू (पुनर्विवाहित स्त्री) से उत्पन्न पुत्रपौनर्भव
पुरुष की शक्ति, पुरुष होने का भाव, पुरुष में सामान्य रूप से होने वाला गुणपौरुष
पुरुष संबंधी, पुरुष निर्मित, पुरुष का कर्म (पुरुषार्थ)पौरुषेय
पुरोहित का कार्यपौरोहित्य
समाचार पत्र, पुस्तकों आदि को प्रकाशित करने वालाप्रकाशक
प्रकाशक संबंधीप्रकाशकीय
जो छपा एवं प्रचारित किया गया होप्रकाशित
प्रकाश में लाये जाने योग्यप्रकाश्य
अधिक बकवास करने वालाप्रगल्भ, वाचाल
जिसका प्रचार हुआ या किया गया होप्रचारित
शीघ्र आग पकड़ने वालाप्रज्वलनशील
प्रणाम करने योग्यप्रणम्य
जिसकी प्रतारणा (ठगी) की गयी होप्रतारित
प्रतिकार करने की इच्छा या भावनाप्रतिचिकीर्षा
किसी स्थल से परावर्तित होकर आई हुई ध्वनिप्रतिध्वनि
जो किसी की ओर (प्रति) से हैप्रतिनिधि
विरोधी का पक्षप्रतिपक्ष, विपक्ष
दूसरे या विरोधी पक्ष में रहने वालाप्रतिपक्षी
किसी की ज़मानत करने वाला (ज़ामिन)प्रतिभू
वह जो दूसरों द्वारा लगाये गये अभियोग का उत्तर दे या बचाव करे या काट करे या प्रतिवाद करेप्रतिवादी
पास में निवास करने वालाप्रतिवासी, प्रतिवेशी, प्रतिवेश्य, पड़ोसी
सम्मान प्राप्त या आदर प्राप्तप्रतिष्ठित
किसी काम में दूसरे से बढ़ जाने की इच्छा या उद्योग या लाग डाँट या चढ़ा ऊपरीप्रतिस्पर्धा (प्रतिस्पर्द्धा)
निराश किया हुआ या पराभूत किया हुआप्रतिहत
जो समझ में आता हो, जो वास्तव में जान पड़ता होप्रतीयमान्
जो आँखों के सामने (स्पष्ट) होप्रत्यक्ष
जो कहीं जाकर लौट आया होप्रत्यागत
किसी आरोप के बदले लगाया गया आरोपप्रत्यारोप
वापस आना या लौट आनाप्रत्यावर्तन
लौटकर आया हुआप्रत्यावर्ती
अपने आवेदन के बदले में दिया गया आवेदनप्रत्यावेदन
प्रत्याशा करने वाला, पद का इच्छुक व्यक्तिप्रत्याशी
वापस बुलाया हुआप्रत्याहूत
उत्तर द्वारा खण्डन करके कहा हुआप्रत्युक्त
जवाब का जवाबप्रत्युत्तर
किसी के उत्तर में जो ठीक समय पर उत्पन्न होप्रत्युत्पन्न
व्यक्ति जो ठीक समय पर तुरंत किसी बात या युक्ति को सोच ले या जिसकी मति प्रत्युत्पन्न (झट सोचने वाली) हैप्रत्युत्पन्नमति
उपकार के प्रति किया गया उपकार / भलाई के बदले की गयी भलाईप्रत्युपकार
चांद्रमास के दोनों पक्षों (शुक्ल व कृष्ण) की पहली तिथिप्रथमा, प्रतिपदा, परिवा
वह स्थान जहाँ नाना वस्तुओं का प्रदर्शन किया जाता हैप्रदर्शनी
संध्या काल या सूर्यास्त का समय, रात्रि का प्रथम प्रहर या रात का पूर्वभागप्रदोष
किसी देश के मंत्रियों में सबसे बड़ाप्रधानमंत्री
गिरा हुआ पत्ताप्रपर्ण
पिता के पिता का पिताप्रपितामह, परदादा
पिता के पिता की माँप्रपितामही, परदादी
जो प्रमाण से सिद्ध हो सकेप्रमेय
उद्योग में लगा हुआ या प्रयत्न (प्रयास) करना जिसका स्वभाव होप्रयत्नशील, प्रयत्नवान्, उद्योगशील
प्रयाग तीर्थ का पंडाप्रयागवाल
प्रयोग या उपयोग (प्रयोजन) में लाने योग्यप्रयोजनीय
वह स्त्री नायिका जिसका पति प्रवास करने वाला हो या विदेश जाने वाला होप्रवत्स्यत्पतिका, प्रवत्स्यत्प्रेयसी
जो अपनी जन्मभूमि छोड़कर विदेश में वास करता होप्रवासी
प्रशंसा के योग्यप्रशंसनीय
प्रशंसा किया हुआ या प्रशंसा योग्यप्रशस्त
प्रश्न के रूप में पूछे जाने योग्यप्रष्टव्य
वह जो प्रश्न करता हैप्रष्टा, प्रश्नकर्ता
आगे-आगे चलने वालाप्रष्ठ
स्त्री जिसने बच्चा जना होप्रसूता
बच्चा जनने का घरप्रसूतिगृह, प्रसूतिभवन, सौरी, सूतिकागार, जच्चाखाना
प्रस्वेद (पसीने) से तर-बतर या पसीने से लथपथप्रस्वेदी
जो पहरा देता हैप्रहरी
नाटक का एक हास्य रस प्रधान भेदप्रहसन
ऐसा वाक्य या पद्य जिसका उत्तर खोजना पड़े या कूट प्रश्नप्रहेलिका, प्रहेली, पहेली, बुझौवल
प्रकृत से उद्भूत या प्रकृति में होने वालाप्राकृतिक
क्रमबद्ध इतिहास लिखने के पहले के काल काप्रागैतिहासिक
मंत्र द्वारा देवता का उसकी प्रतिमा निवास कराना  या मंत्र द्वारा देव मूर्ति को प्राण-युक्त करना या मंत्रोच्चार द्वारा मूर्ति में प्राण (जीवन शक्ति) की प्रतिष्ठा (स्थापन) करनाप्राण-प्रतिष्ठा
प्राण की रक्षा करने वाला, प्राण-शक्ति बढ़ाने वाला, प्राण-दाताप्राणद
प्राण (श्वास-प्रश्वास) की गति का क्रमशः दमनप्राणायाम
प्राप्त करने योग्यप्राप्तव्य
किये हुए पाप का दंडस्वरूप फल भोगप्रायश्चित
प्रार्थना करने वाला व्यक्तिप्रार्थी
जो प्रिय या मृदु या मधुर बोलता हैप्रियंवद, प्रियवादी, प्रियभाषी, मधुरभाषी, मृदुभाषी, मिष्टभाषी, मिट्ठू
प्रिय या मृदु वचन बोलने वाली स्त्रीप्रियंवदा
देखने में प्रिय लगने वालाप्रियदर्शी
वह जिससे प्रेम किया जायेप्रिय-पात्र, प्रेम-पात्र
किसी से प्रेम करने वाली स्त्रीप्रेयसी
वह स्त्री जिसका पति विदेश गया हो या प्रवासी होप्रोषितपतिका, प्रोषितभर्तृका, प्रोषितप्रेयसी
वह नायक जो अपनी भार्या के प्रवास के कारण दुःखी होप्रोषितभार्य

‘फ’

वाक्यांशएक शब्द
अधिक और व्यर्थ का खर्च करने वालाफ़ज़ूलख़र्च (फ़िज़ूलख़र्च), अपव्ययी
अधिक और व्यर्थ खर्च करनाफ़ज़ूलख़र्ची (फ़िज़ूलख़र्ची), अपव्यय
दुकानदार का वह कपड़ा जिसे वह ज़मीन पर बिछाकर अपनी विक्रय सामग्री सजाता है, जुआ खेलने का स्थानफड़
फलने वाला या फूल (ठीक परिणाम) देने वालाफलदायी
फल को इस प्रकार रखना कि गलने सड़ने न पायेफल-परिरक्षण
फल की इच्छा या आकांक्षा या कामना या अपेक्षाफलाकांक्षा, फलकामना, फलापेक्षा
फल की कामना करने वाला या आकांक्षा रखने वालाफलकाम, फलासक्त, फलार्थी, फलाकांक्षी, फलान्वेषी
केवल फल खाकर रहने वालाफलाहारी
मोमबत्ती जलाने का शीशे का गिलास या शमादानफ़ानूस
अचानक होने वाला उपद्रव या दंगा-फ़सादफ़ितना
वह पात्र जिसमें शोभा के लिये फूल लगाकर रखे जाते हैंफूलदान
घूम-घूमकर सौदा बेचनेवाला व्यापारीफेरीवाला

‘ब’

वाक्यांशएक शब्द
बाँस का डंडा जो कंधे पर रखा जाता है और उसके दोनों ओर उपयोगी सामग्री टाँगकर एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाया जाता हैबँहगी, बहँगी
समुद्र के अंदर की आगबड़वानल, बड़वाग्नि
किसी देवता पर चढ़ाने के लिये किसी पशु को मारने की क्रिया; देवता पर चढ़ायी गयी वस्तु, चढ़ावाबलि
जिसे समाज या जाति से बाहर निकाल दिया गया होबहिष्कृत
जिसकी चर्चा बहुत हुई होबहुचर्चित
जो बहुत से विषयों का जानकार होबहुज्ञ
जिसने बहुत कुछ देखा होबहुदर्शी
यह सिद्धान्त कि देवता बहुत से हैं जिनकी उपासना की जानी चाहिएबहुदेववाद
अनेक धंधों से संबंध रखने वालाबहुधंधी
जिसकी अधिक प्रतीक्षा की गयी होबहुप्रयोजनीय, बहुउद्देश्यीय
अनेक पत्नी वालाबहुपत्नीक
अनेक स्त्रियों से विवाह कर सामाजिक जीवन व्यतीत करने की प्रथाबहुपत्नीत्व, बहुपत्नीप्रथा
बहुत से बच्चों की माँबहुप्रसू
बहुत सी भाषाओं का ज्ञाताबहुभाषज्ञ, बहुभाषाविद्
अनेक भाषा बोलने वालाबहु-भाषा-भाषी
बहुत बोलने वालाबहुभाषी, बकवादी
आधे से अधिक लोगों की मिलकर एक रायबहुमत
अनेक जड़ों वालाबहुमूल
अधिक क़ीमत (मूल्य) वालाबहुमूल्य
अनेक प्रकार के रूप धारण करने वालाबहुरूपिया
जिसने अनेक विषयों का ज्ञान सुना और स्मरण रख लिया होबहुश्रुत
बड़ी संख्या वाला या अपेक्षाकृत जिसकी संख्या अधिक होबहुसंख्यक
असभ्य, उजड्ड और गवाँरबाँगड़ू
बाढ़ में न डूबने वाली ज़मीन, ऊँची भूमि, पुरानी जलोढ़ जहाँ तक बाढ़ का पानी नहीं पहुँचताबाँगर
जिस स्त्री को संतान न पैदा होती होबाँझ (वंध्या)
दीमकों के रहने का भीटा, दीमकों का बनाया हूआ मिट्टी का भीटबाँबी, बिमौट, बिमौरा, वल्मीक
जो बालकों के लिये उपयोगी होबालोपयोगी, बालकोपयोगी
बुद्धि द्वारा ग्रहण किये जाने योग्यबुद्धिग्राह्य
जिसकी जीविका बुद्धि के (दिमागी) काम से चलती होबुद्धिजीवी
खाने की इच्छाबुभुक्षा
जिसे भूख लगी होबुभुक्षित, भूखा, क्षुधातुर, क्षुधित
जानने की इच्छाबुभुत्सा
जानने का इच्छुकबुभुत्सु, जिज्ञासु
यश की इच्छा या शुभ, कल्याण, शक्ति आदि की इच्छाबुभूषा
यश का इच्छुक या शुभ, कल्याण, शक्ति आदि का इच्छुकबुभूषु, बुभूषक
जिसको किसी बात की खबर न होबेखबर
जिसके जोड़ (मुकाबले) का कोई न होबेजोड़
जिसका कोई रोजगार नहीं हैबेरोजगार
समझ में आने योग्य या जो बुद्धि द्वारा जाना जा सकेबोधगम्य
गया का एक पीपल का वृक्ष जिसके नीचे सिद्धार्थ को ज्ञान (बोधिसत्व, संबोधि) प्राप्त हुआबोधिवृक्ष, बोधितरु, बोधिद्रुम
बुद्धत्व प्राप्त करने का अधिकारीबोधिसत्व
बहुत ही छोटे क़द का आदमीबौना
आम की मंजरीबौर
सूर्योदय से पहले दो घड़ी तक का पवित्र समयब्रह्ममुहूर्त्त

‘भ’

वाक्यांशएक शब्द
किसी टूटी-फूटी (भग्न) इमारत या बस्ती का बचा हुआ अंश (अवशेष)भग्नावशेष
जिसका भजन करना उचित और आवश्यक हैभजनीय
जो भय से घबराया हुआ होभयाकुल
भय (डर) उत्पन्न करने वालाभयानक, भयावह, डरावना
जो भविष्य में निश्चित रूप से होने को हैभवितव्य, भावी
जो व्यक्ति भाग्य पर विश्वास करेभाग्यवादी
जो अच्छे भाग्य वाला होभाग्यवान्, भाग्यशाली, ख़ुशक़िस्मत
भाग्य निश्चित करने वाला, अदृष्ट का नियंताभाग्यविधाता
भाग्य पर आश्रितभाग्याधीन, भाग्याश्रित
भाग्य का भागना (उदय)भाग्योदय
शीघ्र क्रुद्ध हो जाने वाली स्त्रीभामिनी
भारत देश से संबंधित या भारत में उत्पन्नभारतीय, भारतवासी
भारत और यूरोप से संबंधितभारोपीय
जो अनेक भाषाओं का ज्ञाता होभाषाविद्
सूत्र ग्रंथों की विस्तृत व्याख्या, गूढ़ बात की विस्तृत व्याख्याभाष्य
भीख (भिक्षा) माँगने वालाभिक्षुक, भिक्षु
दीवार (भित्ति) पर बना चित्रभित्तिचित्र
भोजन की इच्छाभूख, क्षुधा
भूगर्भ विज्ञान का जानकारभूगर्भवेत्ता, भूगर्भशास्त्री
ऐसा शास्त्र जिसमें पृथ्वी (भू) के स्वरूप (गोल) का वर्णन होभूगोल
भूतों (पंचमहाभूत) के ईशभूतेश्वर (शिवजी)
(किसी पद पर) जो पहले रहा हो जिसका भोग करना उचित होभूतपूर्व
जो भू (भूमि) को धारण करता हैभूधर
जिसका भोग करना उचित होभोग्य
भूगोल से संबंधित या भूगोल काभौगोलिक
गर्भस्थ शिशु (भ्रूण) की हत्याभ्रूणहत्या

म’

वाक्यांशएक शब्द
जिसकी बुद्धि मंद होमंदबुद्धि
फूल का रसमकरंद
चुनाव में अपना मत देने की क्रियामतदान
किसी विषय में एक का दूसरे या दूसरों से मत न मिलनामतभेद
मत का अनुयायीमतानुयायी, मतावलंबी
मतिमंद (मूर्ख) होने की अवस्थामतिमांद्य
मत की एकता या समानतामतैक्य
मति ( नशा, अहंकार, मतिभ्रम) से अंधा अर्थात् जिसे मस्ती, गर्व आदि के कारण भले बुरे का कुछ ज्ञान न होमदांध
मदमत्त हाथी, इंद्र का हाथी ऐरावतमदांबर
जो मद्यपान करने का आदी होमद्यप
दो विरोधी मार्गों के बीच का मार्गमध्यमार्ग
समाज में उच्चवर्ग और निम्नवर्ग के बीच का वर्गमध्यवर्ग
दोपहर का समयमध्याह्न, मध्यदिव
मन को मोह लेने वालामनमोहक, मनमोहन
मन, वचन और करम सेमनसा-वाचा-कर्मणा
मनाने का ढंग या यत्नमनुहार
मन के दुर्बल होने की स्थिति या भावमनोदौर्बल्य
पसंद किया हुआ या जो मन के अनुकूल हो या चुना हुआमनोनीत
मन के मलिन होने की स्थिति या भावमनोमालिन्य
मन और उसकी अवस्थाओं तथा क्रियाओं का अध्ययन करने वाला शास्त्रमनोविज्ञान
मन के किसी ओर प्रवृत्त होने या उससे हटने की अवस्था / मन की स्वाभाविक स्थितिमनोवृत्ति
मन को हर लेने वालामनोहर
मरना ही जिसका धर्म होमरणधर्मा, मरणशील
जो मृत्यु (मरण) के समीप (आसन्न) होमरणासन्न
रेतीला और जलरहित प्रदेशमरुस्थल, रेगिस्तान
किसी बात के मर्म (गूढ़ रहस्य) को जानने वालामर्मज्ञ
जिसके हृदय को चोट पहुँची होमर्माहत
जो मर्यादा के अनुरूप होमर्यादित
पूस-माघ की वर्षा, वह वर्षा जो जाड़े में हो, जाड़े की झड़ीमहावट
शास्त्रानुसार अभिषिक्त राजा या सम्राटमहिष
महिष या सम्राट की प्रमुख पत्नी या राजा के साथ अभिषेक की हुई रानीमहिषी, राजमहिषी, पट्टमहिषी, पटरानी
पकाये गये चावल का बचा हुआ पानी, पसावमाँड
मांस का भोजन करने वालामांसाहारी
माँ होने का भाव, संतानवती होने की अवस्थामातृत्व
जो माता की हत्या कर चुकामातृहंता
मानने योग्यमाननीय
मानव जाति से परे (इतर)मानवेतर
मान (रूठना) करने वाली स्त्रीमानिनी, मानवती
माया संबंधी या माया के रूप में होने वालामायावी
मार्ग (पथ) दिखाने वालामार्गदर्शक, रहनुमा, पथप्रदर्शक
जो अपने मार्ग से भटक (भ्रमित) गया होमार्गभ्रमित
जो अपेक्षाकृत कम बोलता होमितभाषी
कम या नपा-तुला खर्च करने वालामितव्ययी
थोड़ा और नपा-तुला भोजन करने वालामिताहारी
मिथ्या (झूठ) बोलने वालामिथ्यावादी
मिष्ट (मधुर) भाषण करने वालामिष्टभाषी, मधुरभाषी
जिसकी आँखें (मीन) के आकार की तरह सुन्दर होंमीनाक्षी
जो मुक़दमा लड़ता रहता हैमुकदमेबाज
जो पुष्प पूर्ण रूप से विकसित न हुआ होमुकुल, कली
ज़ोर से बोलने वाला, निडर होकर बोलने वाला, सीमा को न मानने वालामुक्तकंठ
जो खुले हाथों दान/व्यय करता होमुक्तहस्त
प्रदेश या राज्य के मन्त्रियों में सबसे बड़ामुख्यमंत्री
यौवन को प्राप्त हो रही मुग्ध (सुंदर) नायिकामुग्धा
वह स्थिति जब मुद्रा का चलन अधिक होमुद्रास्फीति
मोक्ष की कामना या इच्छामुमुक्षा
जिसे मोक्ष की कामना होमुमुक्षु
मर जाने की इच्छा या कामनामुमूर्षा
जिसे मर जाने की कामना या इच्छा होमुमूर्षु
मृग की सी आँखों के समान जिस स्त्री की आँखें होंमृगनयनी, मृगाक्षी
मृग को मरु में जल दिखायी देने की भ्रांतिमृगमरीचिका
कमल का डंठल जिसमें फुल लगा रहता हैमृणाल, कमलनाल
मरा हुआमृत
जिसने मृत्यु को जीत लिया होमृत्युंजय
मृत्यु तकमृत्युपर्यंत
मेघ के समान जो नाद (गरजता) करता होमेघनाद
बादलों (मेघों) से ढका (आच्छन्न) हुआमेघाच्छन्न
असाधारण मेधा बुद्धि वालामेधावी
न बोलने का संकल्पमौनव्रत
न बोलने का संकल्पधारी या चुप रहने वालामौनव्रतधारी, मौनव्रती, मौनी

अंतस्थ वर्ग

‘य’

वाक्यांशएक शब्द
यात्रा करने वालायात्री
क्रम के अनुसारयथाक्रम
जैसा है उसी के अनुरूपयथानुरूप
जैसा पहले था वैसा हीयथापूर्व
जैसा होना चाहिए ठीक वैसा हीयथार्थ
ज्यों का त्यों या जैसे का तैसायथावत्
जैसी विधि निर्धारित हो उसी के अनुसारयथाविधि, विधिपूर्वक
जैसे किसी की शक्ति हो उसी के अनुसारयथाशक्ति
जहाँ तक और जितना संभव होयथासंभव
जहाँ तक और जितना सध सकेयथासाध्य
ठीक जगह (स्थान) परयथास्थान
जिस रूप में अब तक चल रहा होयथास्थिति
यह मंतव्य कि वस्तु को यथापूर्व स्थिति में रहने देना चाहिएयथास्थितिवाद
जैसा उचित हो वैसायथोचित
जितना चाहिए उतनायथेष्ट
मनमाना आचरणयथेष्टाचरण, यथेष्टाचार
मनमाना आचरण करने वालायथेष्टाचारी
कहे हुए के अनुसारयथोक्त
मनमाने ढंग से, इत्तफ़ाक़ सेयदृच्छया, अकस्मात्
स्वेच्छानुसार किया गया व्यवहार (मनमानापन), आकस्मिक संयोग (इत्तफ़ाक़)यदृच्छा
रंगमंच का परदायवनिका
जौ का माँडयवमंड, यवागू
लोहे आदि धातुओं को जंग से बचाने हेतु उनपर विद्युत आदि की सहायता से जस्ते का पानी चढ़ानायशदीकरण
यश वाला व्यक्तियशस्वी
यश का नाश करने वालायशोघ्न
किर्ति (यश) पाने की लालसायशोलिप्शा
पताका का डंडायष्टि
गले में पहनने का एक प्रकार का हारयष्टी
वह शास्त्र जिसमें यन्त्रों के बनाने, चलाने और सुधारने का विवेचन होतायांत्रिकी
जो कोई वस्तु माँगता हो या याचना करता होयाचक
किसी से अनुग्रहपूर्वक कुछ माँगनायाचना
प्रायः याचना करने वालायाचिष्णु
यजुर्वेद से संबंधित या यजुर्वेद का ज्ञातायाजुष
यज्ञ करने और कराने वाला व्यक्तियाज्ञिक
यात्रा करने वालायात्री, मुसाफ़िर
जो क्रमरहित हो या बेतरतीब हो या अप्रत्याशित हो, बिना सोचे समझेयादृच्छिक
घूमने-फिरने वाला आदमी, घुमक्कड़यायावर
सारा जीवन या जीवन भर या आजीवनयावज्जन्म, यावज्जीवन
यज्ञ का इच्छुकयियक्षु
संभोग का इच्छुकयियप्सु
जाने की इच्छायियासा
जाने को इच्छुकयियासु
उचित आहार करने वालायुक्ताहार
युग का निर्माण करने वालायुगनिर्माता
अपने युग का बहुत बड़ा व्यक्तियुगपुरुष
समुद्री जहाज जिस पर से सैनिक युद्ध करते हैंयुद्धपोत
जो युद्ध में स्थिर रहता हैयुधिष्ठिर
युद्ध करने की प्रबल इच्छायुयुत्सा
युद्ध करने की प्रबल इच्छा करने वालायुयुत्सु
राजगद्दी का उत्तराधिकारी / सबसे बड़ा राजकुमारयुवराज
यूरोप और एशिया से संबंधितयूरेशिया
युवा या युवती होने की अवस्थायौवन
राज्य के उत्तराधिकारी राजकुमार का अभिषेक कृत्ययौराज्याभिषेक

‘र’

वाक्यांशएक शब्द
वह ऊँचा उठा हुआ स्थान जहाँ पर पात्र अभिनय करते हैंरंगमंच
पुलिस या सेना में नया भरती जवानरंगरूट
रक्त के दबाव का मात्रक/अनुपात से घट-बढ़ जाने का रोगरक्तचाप
रक्त (खून) से रँगा या लथपथरक्तरंजित
लाल आँखों वालारक्ताक्ष
ललाई लिये हुएरक्तिम
रक्षा करने वालारक्षक
जिसकी रक्षा करना उचित या आवश्यक हो / रक्षा किये जाने योग्यरक्षणीय
अयोध्या के महाराज रघु के वंश कारघुवंशी, राघव
बड़े-बड़े खम्भों में लोहे के रस्से बाँधकर बनाया गया मार्गरज्जुमार्ग
रति से आनंदित स्त्रीरतिप्रीता, कामिनी
रात में न दिखायी पड़नेवाला नेत्र संबंधी रोगरतौंधी
जहाँ रानियाँ निवास करती हैं, रानियों का महलरनिवास, अंतःपुर
रस (मीठा रस) में पका चावलरसिआउर
कुँए से पानी निकालने का यंत्र विशेषरहँट
राजा द्वारा संचालित शासनराजतंत्र
राज्य का विदेश में प्रतिनिधिराजदूत
राजा या राज्य के प्रति किया जाने वाला विद्रोह / राज्य के प्रति द्रोह या बैरराजद्रोह
राज्य द्वारा आधिकारिक रूप से प्रकाशित होने वाला पत्रराजपत्र, गजट
जिसकी सूचना राजपत्र (गज़ट) में दी गयी होराजपत्रित
राजा के रहने का भव्य भवन या प्रासादराजप्रासाद, राजभवन, राजमहल, राजवसति, राज-हर्म्य
राजा का वैभव, राजा की सुख-संपदा और वैभवराज-लक्ष्मी, राज-श्री
वह धन जो आधिकारिक रूप से राज्य को मिलता होराजस्व
राधा का पुत्र या राधा द्वारा पालन-पोषण किया हुआ पुत्रराधेय (कर्ण)
निश्चित, संपन्न और सुखी राज्य, लोक-कल्याणकारी-राज्य की पराकाष्ठा से संबंधित अवधारणा, भगवान राम का राज्यराम-राज्य
लोक प्रचलित अभिवादनराम-राम (नमस्कार)
किसी समस्या का अमोघ उपाय; शीघ्र, गुणकारी व अमोघ औषधरामवाण (रामबाण)
किसी राष्ट्र का सबसे बड़ा राज्याधिकारी, राष्ट्र का प्रधानराष्ट्रपति
आनंदमय क्रीड़ा या विलास, भगवान कृष्ण और गोपियों द्वारा घेरा बनाकर किया जाने वाला नृत्यरास
श्रीकृष्ण और गोपियों की प्रेमपूर्ण लीलाएँरासलीला
उत्तराधिकार में मिली जायदादरिक्थ
रोष से भरा हुआरुष्ट
वह काव्य जिसका अभिनय किया जायेरूपक
भेड़-बकरियों का झुंडरेवड़
पगी हुई चीनी या गुड़ की सफेद तिल मिश्रित छोटी टिकियारेवड़ी
जिसके रोंगटे खड़े हो गये होंरोमांचित

‘ल’

वाक्यांशएक शब्द
लम्बे या मोटे उदर (पेट) वालालंबोदर
वह व्यक्ति जो लकड़ियाँ काटकर अपना रोजगार चलाता हैलकड़हारा
शीघ्र पकने वालालघुपाक
दान में प्राप्त दासलब्धदास
जिसने प्रतिष्ठा (सम्मान) प्राप्त किया होलब्धप्रतिष्ठ
चिकनी-चुपड़ी बातलल्लो-चप्पो
जिसका इलाज न होलाइलाज
जो कोई जवाब (उत्तर) न दे सके / जिसका उत्तर न दिया जा सकेलाजवाब
कागजातों को लाल फ़ीते के अंदर बंद रखे रहना जिससे अनावश्यक विलंब होता हैलालफ़ीताशाही
लालसा रखने वाला या ललचाया हुआलालायित
कुछ लाभ पाने की चाहलिप्सा
लोभ में पड़ा हुआ या ललचाया हुआ या लुभाया हुआलुब्ध
आय-व्यय लेन-देन का लेखा करने वालालेखाकार, लेखपाल
जिह्वा से चाटने की क्रियालेहन
मजदूरी के रूप में दिया जाने वाला कटे हुए फसल का अंशलेहना
जन सामान्य (लोक) के गीत या जन समुदाय में प्रचलित परंपरागत गीतलोकगीत
वह शासन प्रणाली जो लोक द्वारा, लोक (जनता) के लिए निश्चित होती हैलोकतंत्र
जन साधारण (लोक) को पसंद आने वालालोकप्रिय
लोक की सेवा करने वाला, राजकीय कर्मचारीलोकसेवक
लोक में प्रचलित वस्तुओं से अधिकतर बढ़करलोकोत्तर
बच्चों को थपकी देते हुए सुलाने का गीतलोरी
लालसा करने वालालोलुप, लोभी
इस लोक (संसार) से संबंध रखने वालालौकिक
जो पुरुष लोहे की तरह बलिष्ठ होलौहपुरुष

‘व’

वाक्यांशएक शब्द
जो वंदना के योग्य होवंदनीय, वंद्य
वह स्त्री या मादा पशु जो संतान उत्पन्न करने में असफल होवंध्या, बाँझ
उस वंश में उत्पन्न व्यक्तिवंशज
जो वचन से परे होवचनातीत
वज्र रहता है हाथ में जिसकेवज्रपाणि (इंद्र)
बचपन और जवानी की उम्र के बीच की संधिवयःसंधि
वर प्रदान करने वालावरदाता, वरदायक
लड़के (वर) वाले लोगवरपक्ष
विवाह हेतु वर का वधू के यहाँ जानावरयात्रा, बरात
जो वर्णन करने के परे या जिसका वर्णन करना असम्भव होवर्णनातीत
जो बढ़ रहा होवर्द्धमान
जो निरन्तर कई वर्षों से चलता रहे या होता रहेवर्षानुवर्ष
दीमक, चींटी आदि की चाली हुई मिट्टी का ढेरवल्मीक (बाँबी), बिमौट, बिमौरा
वसंत पंचमी के दिन मनाया जाने वाला उत्सववसंतोत्सव
कन्या जिसके विवाह कर देने का वचन दे दिया गया होवाग्दत्ता
कन्या का विवाह कर देने का वचन देने की रस्मवाग्दान
जो व्यर्थ की और बहुत बातें करता हैवाचाल
लिखित साहित्य का संग्रह, वाणी (वाक्) का विकार या मय (सहित)वाङ्मय (वाक्+मय)
ग्रंथ की भूमिकावाङ्मुख
ऐसी व्यवस्था करना कि बाहर के तापमान का प्रभाव भीतर न पड़ेवातानुकूलन
वह जो किसी के विरुद्ध वाद (मुकदमा) पेश करेवादी, मुद्दई
वनस्पति का आहार करने वालावानस्पत्याहारी
बायीं ओर से घूमना, घड़ी की सूइयों के घूमने की विपरीत दिशा में घूमनावामावर्त
वर्ष में एक बार होने वालावार्षिक
प्रतिवर्ष दी जाने वाली वृत्ति या अनुदानवार्षिकी
वसुदेव के पुत्रवासुदेव (श्रीकृष्ण)
जो कोई वस्तु वहन करता हैवाहक
जिसका कोई अंग बेकार हो गया होविकलांग
एक से अधिक बातों में से कोई एकविकल्प
जिसमें कोई विकार या परिवर्तन होता होविकारी
जिसमें किसी प्रकार का विकार होविकृत
विकृति होने का भावविकृति
केंद्र से हटाना, एक स्थान पर केंद्रित शक्तियों और अधिकारों को बाँट देनाविकेंद्रीकरण
वस्तुओं की बिक्री करने वालाविक्रेता
विघ्न डालने वालाविघ्नकारी, विघ्नक
जिसे जीत लिया गया होविजित
जिसकी जानकारी बहुत अधिक होविज्ञ
लोगों की जानकारी के लिये पत्रों आदि में प्रकाशित बात या सूचनाविज्ञापन
पैसे की चाह या धन की लालसावित्तैष्णा
जो नीतिज्ञ और विद्वान होविदुर
जो स्त्री विद्वान् होविदुषी
बहुत दूर काविदूर, सुदूर
वह व्यक्ति जो लोगों का मनोरंजन करता होविदूषक, मसखरा, भाँड
दूसरे देश का, दूसरे देश में रहने वालाविदेशी
जिस पुरुष के पास विद्या होविद्यावान्, विद्यावाला, विद्वान
जिस स्त्री के पास विद्या होविद्यावती, विदुषी
जो अपने धर्म के विपरीत आचरण करता हो (धर्मभ्रष्ट), जो किसी दूसरे धर्म का अनुयायी होविधर्मी
वह स्त्री जिसका पति (धव) मर गया होविधवा
करने या न करने का शास्त्रीय निर्देशविधि-निषेध
विधि (कानून) द्वारा प्रदत्त (प्राप्त)विधिप्रदत्त
जो क़ानून (विधि) के प्रतिकूल (विरुद्ध) होविधि-विरुद्ध
जो क़ानून (विधि) के अनुकूल (सम्मत) होविधि-सम्मत
वह पुरुष जिसकी पत्नी मर गयी हो अर्थात् जिसके परिवार की गाड़ी पत्नीरूपी ‘धुर’ या ‘धुरे’ से विरहित हैविधुर
कानून का रूप देने के लिये प्रस्तुत किया गया प्रस्ताव या मसौदाविधेयक
एक वस्तु लेकर उसके बदले में दूसरी वस्तु देनाविनिमय
जिसको पत्नी का साथ नविपत्नीक
मार्ग से इधर उधर होना या विचलनविपथन
तारों भरी रातविभावरी
जो सबमें व्याप्त हो या सर्वत्र वर्तमान होविभु, सर्वव्यापक
विरुद्ध मत या किसी मामले के ख़िलाफ़त दिया गया मतविमति
सौतेली माँविमाता
योग या मिलन न होने की अवस्थावियोग
आसक्ति से रहित, भोग विलास आदि से दूर रहने वालाविरक्त
दुखियारी औरतविरक्ता
अनुरक्ति न रहने की अवस्था या भावविरक्ति
विरोध करने वाला या विरुद्ध पड़ने वालाविरोधी
किसी की कीर्ति या गाथा (विरुद) का विस्तृत यशोगानविरुदावली
किसी पदार्थ या राज्य का दूसरे पदार्थ या राज्य में मिल जानाविलय
विवाद में फँसा हुआविवादग्रस्त, विवादास्पद
जिस पुरुष का विवाह हो चुका होविवाहित
जिस स्त्री विवाह हो चुका होविवाहिता
भले-बुरे की पहचान करने का ज्ञानविवेक
जो किसी विषय का विशेष ज्ञान रखता होविशेषज्ञ
किसी वस्तु या विषय के अंगों को अलग-अलग करके देखनाविश्लेषण
विश्व का भरण पोषण करने वालाविश्वंभर (विष्णुजी)
विश्व का भरण पोषण करने वालीविश्वंभरा (पृथ्वी)
जिसकी ख्याति विश्व भर में व्याप्त होविश्वविख्यात, विश्वविश्रुत, विश्वप्रसिद्ध
जिस पर विश्वास किया जा सकता हो या विश्वास के योग्यविश्वसनीय
जिसका विश्वास किया जायेविश्वस्त, विश्वासपात्र
जो विश्व का मित्र होविश्वामित्र
विषय में लगा हुआ या विषय से आसक्तविषयासक्त
वीणा है जिसके हाथ में वह देवीवीणापाणि (सरस्वती)
जिसकी कामना वीत चुकी हो या जो कामना रहित होवीतकाम, कामनाहीन
राग (प्रेम) से वीत (रहित)वीतराग
व्यर्थ या बिना प्रयोजन (वृथा) के समय अर्थात् काम के लिये अनुपयुक्त समयवृथासमय
ज्ञान संबंधी या विज्ञान का विद्वान्वैज्ञानिक
जो वेतन पर कार्य करता होवैतनिक
विदेश का या विदेश में होने वालावैदेशिक
जो विधि की दृष्टि से ठीक होवैध
व्याकरण का ज्ञाता या व्याकरण से संबंधितवैयाकरण
किसी एक व्यक्ति या व्यक्ति से संबंधितवैयक्तिक, व्यक्तिगत, निजी
विष्णु संबंधी या उस संप्रदाय के नियमों पर चलने वालावैष्णव
पर-स्त्री से अनुचित संबंध रखने वालाव्यभिचारी(व्याभिचारी)
व्यवस्था करने वालाव्यवस्थापक
समूह या समाज में से अलग किया हुआ प्रत्येक व्यक्ति या पदार्थ; वह जिसका विचार अकेले हो, औरों के साथ न हो; समष्टि का एक विशिष्ट और पृथक् अंशव्यष्टि
वह जो किसी विषय की व्याख्या करके पढ़ाता हैव्याख्याता

ऊष्म वर्ग

‘श’

वाक्यांशएक शब्द
जो सदा दूसरों पर संदेह (शंका) करता है या प्रायः संदेह (शंका) करने वालाशंकालु, शंकाशील
जो शक्तिशाली (बलिष्ठ, ताक़तवर) होशक्तिमान्
एक ही तरह की सौ वस्तुओं का संग्रहशतक
सौ में से सौशत-प्रतिशत
सौ वर्ष की अवधि या समयशताब्दी, शतवर्ष
शत्रुओं को मार डालने वालाशत्रुघ्न
जहाँ से शब्द होता हो वहीं पर बाण से मारने वालाशब्दवेधी, शब्दभेदी
जिसे शब्दों से नहीं व्यक्त किया जा सकताशब्दातीत
किसी व्यक्ति द्वारा शपथ (हलफ) के साथ लिखा हुआ न्यायालय में प्रस्तुत पत्रशपथपत्र (हलफनामा)
सोने का स्थान या कमराशयनागार, शयनकक्ष
शरण में आया हुआशरणागत
वह जो किसी की या किसी स्थान में शरण चाहता होशरणार्थी
चाँदनी रातशर्वरी
जो शशि (चंद्रमा) को (सिर) पर धारण करता होशशिधर (शिवजी)
हाथ में लेकर चलाया जाने वाला हथियारशस्त्र
वह जो केवल अन्न, फल, शाक, सब्जी, खाता होशाकाहारी
वह जो शक्ति या देवी की उपासना करता हैशाक्त
हरा-भरा मैदानशाद्वल
सदा रहने वालाशाश्वत
जिसके ऊपर शासन होशासित
जिसे शास्त्रों की अच्छी जानकारी होशास्त्रज्ञ
आदरपूर्वक सिर पर धारण करने या स्वीकार करने योग्यशिरोधार्य
जो तेज (शीघ्र) चलता (गमन) करता होशीघ्रगामी
ठंडा और गर्मशीतोष्ण
चांद्रमास का वह पक्ष जब शाम से ही चन्द्रमा के दर्शन होने लगते हैंशुक्लपक्ष
जिसके हाथ (पाणि) में शूल (त्रिशूल)शूलपाणि (शिवजी)
वह जो शिव संबंधी या शिव संप्रदाय के नियमों का पालन करता होशैव
शिशु संबंधी या शिशुओं की अवस्था से संबंधितशैशव
वह जिसका शोषण किया जायशोषित
ब्राह्मण, क्षत्रिय या वैश्य पिता से शूद्रा माता से उत्पन्न पुत्रशौद्र
मुर्दे या शव जलाने का स्थानश्मशान
सुनने योग्यश्रवणीय, श्रव्य
जिसका तेज नष्ट हो गया होश्रीहत्, तेजोहत्, निःतेज (निस्तेज)

‘ष’

वाक्यांशएक शब्द
वह आकृति जिसमें छः कोण होंषट्कोण
छः-छः महीने पर होने वालाषट्माषिक
वह जिसके छः आनन (मुख) हैंषट्मुख, षडानन, कार्तिकेय
छः प्रमुख भारतीय दर्शनषड्दर्शन
किसी के विरुध्द साज़िशषड्यंत्र
चांद्रमास के किसी पक्ष (कृष्ण या शुक्ल) की छठी तिथिषष्ठी
सोलह वर्ष की युवती या कन्याषोडषी

‘स’

वाक्यांशएक शब्द
जो दो या अधिक भिन्न तत्त्वों या जातियों के संसर्ग से उत्पन्न होसंकर
किसी बात को करने का निश्चयसंकल्प
एक से दूसरी स्थिति में पहुँचना, अधिकार का अंतरणसंक्रमण
किसी रोगी द्वारा दूसरों के लगे रोग द्वारा फैलने वाला, जो संसर्ग से या छूत से फैलता हो (रोग)संक्रामक
दो धाराओं या नदियों के मिलन का स्थानसंगम
जो संगीत जानता हैसंगीतज्ञ
वह स्थान जहाँ स्थायी महत्त्व की वस्तुओं का संग्रह होसंग्रहालय
संचय किया हुआसंचित
जिसके संबंध में संदेह होसंदिग्ध
संदेश ले जाने वालासंदेशवाहक
दो वर्णों (अक्षरों) के मेल होने से वर्ण-विकार; दो पक्षों के मध्य सुलह या समझौतासंधि
वह जो साँप पकड़कर पालता और तमाशे दिखाता हैसँपेरा
साथ में लगा हुआ पत्रसंलग्नक
कुछ खास शर्तों द्वारा कोई कार्य करने कराने का समझौतासंविदा
अलग-अलग अवयवों को एक में जोड़नासंश्लेषण
संहार करने वाला या जो सृष्टि (संसार) का संहार करता होसंहर्ता, संहारकर्ता, संहारक
एक ही जाति कासजातीय
पति की चिता संग जल जाने वाली या सहगामिनीसती
सत्य बोलने वाला, जो असत्य न बोलेसत्यवादी
किसी सत्ता के विरुद्ध अपना सत्य मनवाने के लिये किया गया आन्दोलनात्मक आग्रह या जो आग्रह सत्य होसत्याग्रह
सद् (अच्छे) आचरण वालासदाचारी
नित्य दीन-दुखियों को भोजन देने की व्यवस्थासदावर्त
जिसने अभी हाल ही में बच्चे को जन्म दिया हो, सद्यः (तत्काल, तुरंत) प्रसूता (जन्मदात्री)सद्यःप्रसूता
वह स्त्री जिसका पति जीवित होसधवा
अनेक घटनाओं का एक साथ घटित होनासन्निपात
जो अपनी पत्नी के साथ होसपत्नीक
अपने परिवार के सदस्यों के साथ होसपरिवार
चांद्रमास के किसी पक्ष की सातवीं तिथिसप्तमी
सात दिनों की अवधिसप्ताह
सभ्य होने की अवस्था, गुण या भावसभ्यता
उसी समय में होने वाला या रहने वाला या एक ही समय कासमकालीन, समसामयिक
जो सबको समान भाव से देखेसमदर्शी
संबंध की दृष्टि से किसी के पुत्र या पुत्री का श्वसुर (ससुर)समधी
जिसका समर्थन किया गया होसमर्थित
समान उम्र (वय, आयु) वालासमवयस्क, समआयु, हमउम्र
जहाँ सर्दी और गर्मी की मात्रा बराबर हो या न अधिक उष्णता और न अधिक शीत वालासमशीतोष्ण
सम्पूर्ण से सम्बन्धित या सामूहिक होने का भावसमष्टि
उसी समय में होने वाला या रहने वाला या एक ही समय में वर्तमानसमसामयिक, समकालीन
किसी कृति के गुण-दोष का विवेचन या आलोचनासमालोचना
दो या दो से अधिक शब्दों या पदों का योगसमास
जो पुस्तकों की समीक्षा (गुण-दोष विवेचन) करता हैसमीक्षक
मनुष्यों का किसी विशेष विषय पर विचार के लिये मिलनसम्मेलन
जो सर (तालाब) में जन्मता होसरसिज (कमल)
सबको जीतने वालासर्वजयी, सर्वजित
जिसे सारी बातों का ज्ञान होसर्वज्ञ
जो सबको प्रिय होसर्वप्रिय
सब कुछ खाने वालासर्वभक्षी
जो सभी युगों (समय) के अनुकूल होसर्वयुगानुकूल
जो सबमें व्याप्त हैसर्वव्यापी
जो सर्वशक्तिसम्पन्न हैसर्वशक्तिमान्
सबके लिये प्राप्तसर्वसुलभ
जो सव्य (बायें) हाथ से भी काम कर लेता होसव्यसाची (अर्जुन)
पति या पत्नी के पिता का घर या ससुर (श्वसुर) का घरससुराल (श्वशुरालय)
साथ मिलकर काम करनासहयोग
साथ काम करने वालासहयोगी, सहकर्मी, सहकर्ता, सहायक
गर्भ की अवस्था में ब्याही हुई कन्या का पुत्र, वह पुत्र जिसकी माता विवाह से पूर्व ही गर्भवती रही होसहोढ़
जो एक ही माता के उदर (पेट) से उत्पन्न हुए होंसहोदर
जिसके फलस्वरूप मृत्यु हो जाये, प्राण पर संकट लाने वालासांघातिक
जिसका संबंध संसार या संसार के विषयों से होसांसारिक
जो अक्षरों को पढ़ना-लिखना जानता हो, जिसे अक्षर-ज्ञान होसाक्षर
जो सिद्ध या पूरा किया जा सकेसाध्य
खली-कराई में सानकर दिया जाने वाला चारासानी
उच्चवर्गीय (ज़मींदारों/सामंतों) शासनसामन्तशाही, सामंतवाद
वर्तमान समय या ठीक समय पर होने वालासामयिक
समाज से संबंधित; समाज कासामाजिक
मांस से युक्तसामिष
समूह से संबंधित या समूह द्वारा होने वालासामूहिक
भगवान विष्णु / श्रीकृष्ण के धनुष का नामसारंग
सब समय के लिये उपयुक्त, सब काल संबंधीसार्वकालिक
सर्वसाधारण से संबंधित या जो सबके लिये उपयोगी होसार्वजनिक
सब भूमि या सब देशों में होने वाला, सारी पृथ्वी पर शासन करने वालासार्वभौम
संपर्ण पृथ्वी पर फैला हुआसार्वभौमिक
जो अवधानपूर्वक कोई काम करता होसावधान
साहित्य से संबंधितसाहित्यिक
सिंदूर रखने की काठ की डिबियासिंधोरा (सिंधौरा)
सिंह (शेर) का बच्चासिंहशावक
जिसका प्रयोजन सिद्ध हो चुका होसिद्धकाम
जिसका गला या गले का स्वर अच्छा होसुकंठ
जो सुख देता हो या सुख देने वालासुखद
जिसका अंत सुखद हो या सुखमय परिणामवालासुखांत
सुख में अतः होने वाली रचनासुखांतक
(मकान में) सुविधा का अधिकार या हकसुखाधिकार
सुगमता से ग्रहण करने योग्यसुग्राह्य
जिसकी ग्रीवा (गर्दन) सुन्दर होसुग्रीव
देखने में सुंदर, भगवान विष्णु (श्रीकृष्ण) द्वारा धारण किया गया चक्रसुदर्शन
सुंदर (सु) आँखों (नयन) वालीसुनयना
सौभाग्यवती स्त्री, वह स्त्री जो अपने पति को प्रिय होसुभगा
नव विवाहिता स्त्री (वधू), कन्या पक के पुरोहित को मिलने वाली सिंदूरदान की दक्षिणा या विवाह में सप्तपदी पूजा के बाद पुरोहित को दी जानेवाली दक्षिणासुमंगली
छोटी जपमालासुमिरनी, सुमरनी
सुंदर (सु) आँखों (लोचन) वालीसुलोचना
अच्छा (सु) पढ़ा-लिखासुशुक्षित
अच्छी (सु) पढ़ी-लिखी (स्त्री)सुशिक्षिता
अविवाहित स्त्रियों के नाम के पहले लगने वाला आदरसूचक और शिष्टता पूर्ण संबोधनसुश्री
सोया हुआसुषुप्त
सोने होने की अवस्था, प्रगाढ़ निद्रावस्थासुषुप्ति
वह जो सुंदर हृदय वाला होसुहृद (सुहृत्)
सुंदर हृदय वालासुहृदय
सौर जगत् का मुखिया या तारा, जिसकी अन्य ग्रह परिक्रमा करते हैंसूर्य
ब्याज (सूद) से जीविका चलाने वालासूदखोर
चोरी के लिये मकान की दीवार में किया गया बड़ा-सा छेदसेंध (नकब)
सेना का नायक या सेना का संचालकसेनापति, सेनानायक
सेवा के योग्यसेव्य
सुजन (अच्छा मनुष्य) होने की अवस्था, गुण या भावसुजनता, सज्जनता, सौजन्य
जो आसानी से मिल सके या उपलब्ध होसुलभ
सेना का पड़ाव शिविरसैन्यवास
वह स्त्री जिसका सुहाग (सौभाग्य या पति) जीवित होसुहागिन, सौभाग्यवती, अहिवाती
स्त्री का सा या स्त्री के वश में रहने वालास्त्रैण
जो एक स्थान से हटाकर दूसरे स्थान पर भेज दिया गया होस्थानान्तरित
हमेशा बना रहने वाला, निर्धारित काल तक चलता रहने वालास्थायी
जिसमें स्नान किया जा सकेस्नानीय
जिसने अस्थायी रूप से किसी का स्थान (पद) ग्रहण किया होस्थानापन्न
जो एक जगह से दूसरी जगह न ले जाया जा सकेस्थावर
किसी काम में दूसरे से आगे बढ़ जाने की इच्छा या उद्योगस्पर्द्धा
जो स्मरण रखे जाने योग्य होस्मरणीय
जो अपने नाम से धन्य (प्रसिद्ध) होस्वनामधन्य
वह पुत्र जो अपने मातापिता के मर जाने अथवा उनके द्वारा परित्यक्त होने पर अपने आपको किसी के हाथ सौंप दे और उसका पुत्र बन जायस्वयंदत्त
स्वयं भोजन बनाने वालास्वयंपाकी
जो आप से आप उत्पन्न हुआ होस्वयंभू
स्वयं पति चुनाव का समारोह, पति चयन संबंधी उत्सवस्वयंवर
अपनी ही इच्छानुसार पति का वरण करने वाली स्त्रीस्वयंवरा
जो स्वेच्छा से किसी सेवा कार्य में लगता होस्वयंसेवक
जो स्वर्ग सिधार गया होस्वर्गीय, स्वर्गवासी, दिवंगत
स्वर्ण (सोना), चाँदी जैसी बहुमूल्य धातुओं के आभूषण बनाने वालास्वर्णकार (सुनार)
अपने (स्वयं) के अधीन (वश) होकरस्ववश, स्ववश्य
जो किसी के अधीन या पराधीन न होस्वाधीन
अपनी आत्मा के सुख के लिये या अपनी प्रसन्नता के लियेस्वांतःसुखाय
स्वतंत्रता के बादस्वातंत्र्योत्तर
जो स्व (खुद) का अर्थी (भला) चाहने वाला होस्वार्थी
जो सब काम अपने भरोसे करता होस्वावलंबी
जो स्वास्थ्य को अच्छा करेस्वास्थ्यकर
अपनी इच्छा के अनुसार आचरण करने वाला या मनमाना आचरण करने वालास्वेच्छाचारी, निरंकुश
स्वेद (पसीना) से उत्पन्न होने वालास्वेदज
व्याभिचारिणी या दुराचारिणी स्त्रीस्वैरिणी, पुंश्चली

‘ह’

वाक्यांशएक शब्द
हंस की चाल वाली स्त्री नायिकाहंसगामिनी
दूसरों को जान से मार डालने वालाहत्यारा
सेना का वह भाग जो सबसे आगे रहता हैहरावल
वह जो हल को धारण करता होहलधर (बलरामजी, कृषक)
किसी व्यक्ति द्वारा हलफ़ (शपथ) के साथ लिखा हुआ न्यायालय में प्रस्तुत पत्रहलफनामा (शपथपत्र)
अनेक प्रकार की मिठइयाँ बनाकर बेचने वाला दूकानदारहलवाई
किसी देवता के निमित्त मंत्र पढ़कर घी, जौ, तिल आदि अग्नि में डालने का कृत्यहवन, होम
हवा में उड़ने, रहने या होनेवालाहवाई
देवता के निमित्त अग्नि में दिया जानेवाला घी, जौ या इसी प्रकार की सामग्री, वह द्रव्य जिसकी आहुति दी जाय, हवन की वस्तुहवि
हवन के योग्य सामग्री, हवन के लिये तैयार किया गयाहविष्य
हाथ की कारीगरी या हाथ का कौशलहस्तकौशल, हस्तशिल्प
हाथ में आ जाने जाने वाली छोटी किताबहस्तपुस्तिका
अनावश्यक और अनाधिकार दख़ल देनाहस्तक्षेप
जो हाथ से लिखा गया होहस्तलिखित
किसी काम में हाथ चलाने की निपूणता, हाथ की फुरती, हाथ का कौशलहस्तलाघव, हस्तकौशल
वह जिसके पास संपत्ति या अधिकार सौंपा गया होहस्तांतरित
जिसका उत्साह नष्ट (हत) हो गया होहतोत्साहित
जिसे देखकर लोग मजाक उड़ायेंहास्यास्पद
हिंद या हिंदुस्तान की भाषाहिंदी
भला या हित चाहने वालाहितैषी
मंगल कामना या शुभकामनाहितैष्णा
तरफ़दारी करने वाला, वह जो रक्षा और मदद करता होहिमायती
वह जो तर्क-वितर्क और कहासुनी करता होहुज्जती
आहुति के रूप में दिया हुआ, पूर्ण समर्पण किया गया, हवन की वस्तुहुत
अच्छे कार्य में स्वयं को बलि देने वाला शहीदहुतात्मा
जिसे देख सुनकर हृदय फटता या विदीर्ण होता होहृदयविदारक
मन में करुण भाव उत्पन्न कर उसे द्रवित करने वाला या हृदय को छूने वालाहृदयस्पर्शी
वह जो हृदय पर राज करता हो या हृदय का ईश्वरहृदयेश, हृदयेश्वर (पति)
वह जो हृदय पर राज करती होहृदयेशा, हृदयेश्वरी (पत्नी)
जो होकर रहे या ऐसी घटना जो अवश्य घटित होहोनी, होनहार, भवितव्यता
हाथी की पीठ पर रखी जाने वाली चौकीहौदा

समय से जुड़े वाक्यांश के एक शब्द

वाक्यांशएक शब्द
रात्रि एवं सुबह के बीच का समयउषाकाल (ऊषाकाल)
सुबह कौवे के बोलने का समयभोर
सूर्य की लालिमा दिखने का समयअरुणोदय काल
सूर्य निकलने का समयसूर्योदय काल
सूर्योदय से नौ बजे सुबह तक का पहरप्रातःकाल
दोपहर के पहले का समयपूर्वाह्न
दोपहर का समयमध्याह्न
दोपहर के बाद का समयअपराह्न
सूर्य के अस्त होने का समयसंध्याकाल
संध्या एवं रात्रि के बीच का समय जब गायें चरकर लौटती हैंगोधूलि
रात्रि का प्रथम पहरप्रदोष
रात्रि का दूसरा पहरद्वियामा
अर्द्धरात्रि का समयनिशीथ
रात्रि का तीसरा पहरत्रियामा
रात्रि का चौथा पहरब्रह्ममुहूर्त
तारों भरी रातविभावरी
चाँदनी रातशर्वरी

स्थान से जुड़े वाक्यांश और एक शब्द

वाक्यांशएक शब्द
पर्वत के नीचे की समतल भूमिउपत्यका
पर्वत के ऊपर की समतल भूमिअधित्यका
पर्वतीय प्रदेशों के मध्य का मैदानघाटी
दो पर्वतों के बीच का स्थानद्रोणी
पर्वत के पाद-प्रदेश से लगा हुआ क्षेत्रतराई
हरा-भरा मैदानशाद्वल
बालुकामय प्रदेशमरुभूमि, मरुस्थल
समुद्र तट पर स्थित भूमितटीय
जलासिक्त भूमिआर्द्रभूमि
बिना हल जोते उगने वाली फसलअकृष्टपच्य
वह भूमि जो पहले न जोती गई होअकृष्टपूर्वा
जो जोता-बोया न गया होअकृष्ट, अकृषित
पृथ्वी का वह भाग जो दूर तक समुद्र में चला गया होअंतरीप

पुष्प से जुड़े वाक्यांश के लिये एक शब्द

वाक्यांशएक शब्द
वह फूल जो खिला न होकली
वह फूल जो खिलने जा रहा होमुकुल
कमल की डण्डीमृणाल
तालाब में खिला हुआ कमलसरसिज
लाल कमलकोकनद
सफेद कमल या श्वेत कमलपुंडरीक
जिसका गला नीले रंग का हो, नीले कंठ वालानीलकंठ (शिवजी, एक पक्षी का नाम)
नीले रंग का कमलनीलकमल, निलोत्पल, इंदीवर
पंक (कीचड़) में खिला कमल का फूलपंकज

Experts Ncert Solution

Experts of Ncert Solution give their best to serve better information.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button