Hindi

मूल शब्द: परिभाषा, उपयोग और उदाहरण

भाषा एक संरचित तरीके से व्यक्ति की भावनाओं, विचारों, और अभिव्यक्तियों को साझा करने का माध्यम है। यह शब्दों का अपेक्षाकृत उपयोग करके भाषा की व्याख्या करता है, जिसमें मूल शब्द, उपसर्ग, और प्रत्यय विशेष भूमिका निभाते हैं।

मूल शब्द की परिभाषा | Mul Shabd ki Paribhasha

“मूल शब्द” किसी भाषा के बुनियादी और मौलिक शब्दों को कहा जाता है जो उस भाषा की संरचना और शब्दावली को गठित करते हैं। इन शब्दों का उपयोग अन्य शब्दों या उनके रूपों को बनाने के लिए किया जाता है। मूल शब्दों का अर्थ उनका आदि और असली अर्थ होता है, और ये अक्षरों या ध्वनियों का समूह होते हैं जो किसी भाषा की शब्दावली के निर्माण में सहायक होते हैं।

उपसर्ग (Prefixes): उपसर्ग वे शब्दांश होते हैं जो मूल शब्दों के पहले जोड़े जाते हैं और उनके अर्थ को परिवर्तित कर देते हैं। उनका उपयोग शब्दों के अर्थ में परिवर्तन, प्रभाव, या विपरीतार्थकता लाने के लिए किया जाता है।

प्रत्यय (Suffixes): प्रत्यय वे शब्दांश होते हैं जो मूल शब्दों के अंत में जोड़े जाते हैं और उनके अर्थ में परिवर्तन लाते हैं। ये शब्दों का रूपांतरण, विभक्ति, प्रयोग, या संख्या में परिवर्तन करने के लिए प्रयोग किए जाते हैं।

मूल शब्द, उपसर्ग, और प्रत्यय साथ मिलकर भाषा को समृद्ध बनाते हैं। ये भाषा के व्याकरणिक संरचना का महत्वपूर्ण अंग होते हैं जो शब्दों के अर्थ और प्रयोग को समझने में मदद करते हैं। उनका उपयोग भाषा के विस्तार और समृद्धि को बढ़ाते हैं और समझदारी को बढ़ाते हैं।

अगर हम मूल शब्द, प्रत्यय, और उपसर्ग की बात करें, तो ये तीनों हिंदी भाषा में शब्दों के रचनात्मक अंग हैं। नीचे कुछ उदाहरण दिए गए हैं:

मूल शब्द: खेल

प्रत्यय: -कार, -कर, -ता, -कारी

उपसर्ग: अधि-, अति-, पर-, प्रति-

उदाहरण:

  1. प्रत्यय:
    • खेलकार (जो खेल खेलता है)
    • खेलकर (खेलने के लिए)
    • खेलता (खेल रहा है)
    • खेलकारी (खेलने की क्रिया)
  2. उपसर्ग:
    • अधिखेल (अधिक खेल)
    • अतिखेल (अत्यधिक खेल)
    • परखेल (पराया खेल)
    • प्रतिखेल (प्रत्येक खेल)

इस तरह, प्रत्यय और उपसर्ग मूल शब्द के साथ जोड़कर उनके अर्थ में परिवर्तन या विस्तार करते हैं। ये शब्द शब्दार्थ को समृद्ध करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

Mul Shabd kya hote hain?

मूल शब्द वे शब्द होते हैं जो किसी भाषा में पहले से मौजूद होते हैं और किसी अन्य भाषा से उधार नहीं लिए गए होते हैं।

मूल शब्द भाषा के अन्य भागों के साथ विशेष रूप से महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि इन्हें बदले बिना किसी भी भाषा का संरचना संभव नहीं होता। यहाँ कुछ उदाहरण मूल शब्दों के हैं:

  1. लेखन (वाक्य, अल्फाबेट, अक्षर)
  2. पढ़ाई (शिक्षा, पुस्तक, स्कूल)
  3. सूरज (आकाश, उज्ज्वल, ताप)
  4. खेल (खिलौना, खिलाड़ी, मैदान)
  5. पौधा (पत्ता, जड़, फूल)

इन उदाहरणों में, “लेखन”, “पढ़ाई”, “सूरज”, “खेल”, और “पौधा” मूल शब्द हैं, जो वाक्यों और शब्दों का आधार बनाते हैं और अन्य शब्दों का निर्माण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

मूल शब्द: उदाहरण:

  • पानी
  • आग
  • पृथ्वी
  • आकाश
  • सूर्य
  • चंद्रमा
  • नदी
  • पर्वत
  • मानव
  • जीवन

मूल शब्दों का उपयोग:

  • वाक्यों के निर्माण के लिए:

पानी जीवन के लिए आवश्यक है।

  • विचारों और भावनाओं को व्यक्त करने के लिए:

आग प्रेम और क्रोध दोनों का प्रतीक है।

  • कहानियों और कविताओं को लिखने के लिए:

पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति एक रहस्य है।

  • भाषा की समृद्धि को बढ़ाने के लिए:

आकाश अनंत संभावनाओं का प्रतीक है।

मूल शब्दों के लाभ:

  • मूल शब्दों का उपयोग भाषा को अधिक स्पष्ट और समझने में आसान बनाता है।
  • मूल शब्दों का उपयोग भाषा को अधिक सुंदर और प्रभावशाली बनाता है।
  • मूल शब्दों का उपयोग भाषा को अधिक समृद्ध और विविध बनाता है।

मूल शब्दों के बारे में कुछ रोचक तथ्य:

  • हिंदी में लगभग 80% शब्द मूल शब्द हैं।
  • मूल शब्दों का उपयोग अक्सर अन्य भाषाओं में उधार लिया जाता है।
  • मूल शब्दों का उपयोग भाषा के इतिहास को समझने में मदद करता है।

इस प्रकार, मूल शब्दों का महत्व भाषा के अध्ययन और समझ में होता है, जो भाषा की नींव और संरचना को समर्थन करते हैं।

Experts Ncert Solution

Experts of Ncert Solution give their best to serve better information.

Leave a Reply

Back to top button
WhatsApp API is now publicly available!